गोद में बेटी और बेटे साथ चलता ये पिता खाना डिलीवर करने का काम करता है, हिम्मत को सलाम कर रहे लोग

सोशल मीडिया का चलन बढ़ने के बाद हम आए दिन लोगों के संघर्ष की कहानियां सुनते रहते हैं. मानवीय संघर्ष की कहानियों के बीच डिलीवरी पार्टनर्स के तौर पर काम करने वालों की कहानियां भी हमने खूब देखी हैं.

फिर चाहे वो धूप में साइकिल से खाना पहुंचाने वाला डिलीवरी बॉय हो या व्हीलचेयर पर डिलीवरी करता शख्स, हर कहानी ने मन दुखी भी किया और प्रेरणा भी दी.

बच्चों के साथ भूख से लड़ता पिता

इतनी कहानियां सुनने के बावजूद आज हम आपको एक ऐसी कहानी बताने जा रहे हैं जो निश्चित रूप से आपका दिल पिघला देगी. ये कहानी है एक ऐसे पिता की जो अपने बच्चे को सीने से लगाए हुए आजीविका के लिए जिंदगी से लड़ाई लड़ रहा है.

फूड ब्लॉगर सौरभ पंजवानी ने इंस्टाग्राम पर अपने फॉलोअर्स को एक डिलीवरी पार्टनर से मिलवाते हुए एक वीडियो अपलोड किया है. इस वीडियो में एक डिलीवरी पार्टनर खाने का ऑर्डर लेते समय अपनी बेटी और बेटे को साथ लिए हुए है.

दो बच्चों के साथ खाना डिलीवर करता है

वो ऑर्डर किया हुआ खाना पहुंचाने घर-घर जाते हैं. इस दौरान उनके दोनों बच्चे उनके साथ ही रहते हैं. वीडियो में आप देखेंगे कि वो अपनी बेटी को बैग के सहारे सीने से लगाए रहता है तो वहीं छोटा बेटा पीछे- पीछे चलता नजर आता है.

सौरभ पंजवानी के वीडियो में डिलीवरी बॉय को उसके ऑर्डर के साथ देखा जा सकता है. शख्स को दोनों बच्चों को साथ देखने के बाद सौरभ ने उनसे कुछ सवाल किए.

वह डिलीवरी पार्टनर की नौकरी और बच्चों के बारे में सवाल पूछता है. जवाब देते हुए वह कहते हैं कि वो अपनी बेटी को साथ रखते हैं और बेटा काम पर डिलीवरी में उनकी मदद करता है.

वीडियो ने सबको कर दिया भावुक

सौरभ ने कैप्शन में लिखा कि, “यह देखकर मुझे बहुत प्रेरणा मिली. यह जोमैटो डिलीवरी पार्टनर दो बच्चों के साथ पूरा दिन धूप में बिताता है. हमें सीखना चाहिए कि अगर कोई व्यक्ति चाहे तो कुछ भी कर सकता है.”

चूंकि फूड ब्लॉगर ने तीन हफ्ते पहले वीडियो साझा किया था, इसलिए इस वीडियो पर बहुत से लोगों ने प्रतिक्रिया दी है. इसके साथ ही ये वीडियो वायरल भी हो गया.

Zomato ने भी वीडियो पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए व्यक्ति के संपर्क विवरण का अनुरोध किया है ताकि वे बच्चों की मदद कर सकें. Zomato ने कमेंट में लिखा, “कृपया एक निजी संदेश में ऑर्डर विवरण साझा करें ताकि हम इन तक पहुंच सकें और डिलीवरी पार्टनर की मदद कर सकें.”

[ डि‍सक्‍लेमर: यह न्‍यूज वेबसाइट से म‍िली जानकार‍ियों के आधार पर बनाई गई है. Lok Mantra अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है. ]

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Don`t copy text!