मां ने गहने गिरवी रखकर दिलाया बैट, बेटे ने डेब्यू मैच में 300 रन जड़कर बढ़ाया मान

मां ने गहने गिरवी रखकर दिलाया बैट, बेटे ने डेब्यू मैच में 300 रन जड़कर बढ़ाया मान

सकीबुल गनी क्रिकेट के नए सितारे बनकर उभरे हैं. डेब्यू में मैच में ही बिहार के सकीबुल गनी ने रणजी ट्रॉफ़ी में 405 गेंदों पर 341 रन बना डाले. मिज़ोरम के ख़िलाफ़ खेले गए इस मैच में गनी ने 56 चौके और 2 छक्के जड़े.

कौन हैं सकीबुल गनी

ज़िला मोतिहारी, बिहार के सकीबुल गनी ने बीते शुक्रवार को विश्व रिकॉर्ड बना दिया. 22 साल के गनी फ़र्स्ट क्लास क्रिकेट के डेब्यू में तिहरा शतक लगाने वाले दुनिया के पहले बल्लेबाज़ बन गए. गनी इससे पहले जुनियर क्रिकेट में भी शानदार प्रदर्शन कर चुके हैं. गनी ने मध्य प्रदेश के अजय रोहेरा का रिकॉर्ड तोड़ा. रोहेरा ने 2018 में हैदराबाद के ख़िलाफ़ 267 रन ठोके थे.

आसान नहीं रहा सकीबुल का सफ़र

सकीबुल का सफ़र आसान नहीं रहा, यहां तक पहुंचने के लिए उन्होंने और उनके परिवार ने काफ़ी संघर्ष किया. न्यूज़ 18 के एक लेख के अनुसार, उनके बड़े भाई, फ़ैसल गनी ने बताया कि सकीबुल के लिए बैट ख़रीदने तक के पैसे नहीं थे. लेकिन मां ने कभी पैसों की कमी पूरी होने नहीं दी और बेटे का सपना पूरा करने के लिए हर संभव प्रयास किए. फ़ैसल ने बताया कि जब भी ज़रूरत पड़ती, पैसों की दिक्कत होती उनकी मां, असमा खातून अपने ज़ेवर गिरवी रख कर पैसों का इंतज़ाम करती. गनी जब टूर्नामेंट खेलने के लिए जा रहे थे, उससे पहले मां ने उन्हें तीन बैट दिलवाए और कहा कि जाओ बेटा तीन शतक लगाना. बेटे ने भी मां की बात का मान रखा और पहले ही मैच में तिहरा शतक जड़ दिया.

तिहरा शतक जड़ने के बाद अपने तीन बल्ले पर गनी ने कहा, ‘अम्मा, नज़र उतार दीं.’ गनी ने उन्हीं तीन बैट्स में से एक से रिकॉर्ड बनाया. वहीं असमां ने कहा, ‘हम चौका-छक्का ना बुझत रहीं लेकिन बेटा लोग के खेले से ख़ुशी होखे ला.’

सिर्फ़ 7 साल की उम्र में ही उठा लिया था बल्ला

6 भाई-बहनों में सबसे छोटे, सकीबुल गनी का क्रिकेट का सफ़र सिर्फ़ 7 साल की उम्र में ही शुरु हो गया था. The Times of India की एक रिपोर्ट के अनुसार, सकीबुल गनी के बड़े भाई फ़ैसल ने भी बिहार क्रिकेट एसोशिएशन के लिए फ़र्स्ट क्लास क्रिकेट खेला है. फ़ैसल ही सकीबुल के गुरु थे और सभी भाइयों के लिए प्रेरणा भी. सकीबुल के पिता, मोहम्मद मन्नन गनी स्पोर्ट्स के सामान की दुकान चलाते हैं.

विजय हज़ारे ट्रॉफ़ी और सैयद मुश्ताक़ अली ट्रॉफ़ी में भी किया अच्छा प्रदर्शन

सकीबुल गनी अपने बल्ले से अन्य मुकाबलों में भी कमाल कर चुके हैं. बिहार क्रिकेट एसोशिएशन के सेक्रेटरी, आदित्य वर्मा ने बताया कि वो बेहद साधारण परिवार से आते हैं लेकिन बेहद प्रतिभाशाली क्रिकेटर हैं. आदित्य वर्मा के शब्दों में, ‘लोग उसे अब नोटिस कर रहे हैं लेकिन उसने विजय हज़ारे ट्रॉफ़ी और सैयद मुश्ताक़ अली ट्रॉफ़ी में भी शानदार प्रदर्शन किया. रणजी में भेजने से पहले हमने उसे क्रिकेट खेलने के लिए मुंबई भेजा था और वहां भी उसका प्रदर्शन बेहतरीन था. हमें उसके टैलेंट पर कोई संदेह नहीं है.’

[ डि‍सक्‍लेमर: यह न्‍यूज वेबसाइट से म‍िली जानकार‍ियों के आधार पर बनाई गई है. Lok Mantra अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है. ]

Dhara Patel

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Don`t copy text!