बीमार को देख रो पड़ी, बाढ़ का जायज़ा लेने गई तो मदद करने कीचड़ में उतरी, IAS Roshan Jacob की कहानी

कुछ दिनों पहले एक IAS अफ़सर का वीडियो वायरल हुआ. अस्पताल में घायलों का जायज़ा लेने पहुंची ये IAS अफ़सर बच्चे के बिस्तर के पास पहुंची. ये बच्चा पेट के बल लेटा था और हिल नहीं पा रहा था.

बहुत कम ऐसा होता है कि कोई अधिकारी जनता का दुख पूरी तरह महसूस कर सके. ये अधिकारी शायद अलग थीं, एक बच्चे को औंधा पड़ा और उसकी मां को मदद की गुहार लगाता देख इस IAS की आंखों से भी आंसू निकल आए.

रोते-रोते ही उन्होंने बच्चे के इलाज का आश्वासन दिया. ऐसे दृश्य बहुत कम देखने को मिलते हैं. इस घटना ने जनता के दिल में उनकी जगह बना ली.

इस अधिकारी का नाम है, IAS डॉ. रौशन जेकब

कौन हैं IAS रौशन जेकब?

रौशन जेकब का जन्म तिरुवनंतपूरम, केरल में हुआ. वो 2004 बैच की अफ़सर हैं. वे अपनी माता-पिता की इकलौती संतान हैं और तिरुवनंतपूरम के सर्वोदय विद्यालय से उन्होंने स्कूली पढ़ाई की है.

Money Control के एक लेख के अनुसार, स्कूल की पढ़ाई के बाद जेकब ने गवर्मेंट कॉलेज फॉर विमेन से अंग्रेज़ी में ग्रैजुएशन किया. केरल यूनिवर्सिटी से उन्होंने अंग्रेज़ी में ही पोस्ट ग्रैजुएशन किया. इसके बाद उन्होंने NET-JRF क्वालिफ़ाई किया और बतौर IAS सेवाएं देते हुए ही PhD पूरी की.

2004 बैच की UP कैडर की IAS रोशन जेकब ने अपने लगभग दो दशक के करियर में राज्य के कई महत्वपूर्ण पद संभाले.

लखनऊ में कोविड फैलने से रोका

 

View this post on Instagram

 

A post shared by IndiatimesHindi (@indiatimeshindi)

2021 में जब राज्य की राजधानी लखनऊ में कोविड मामले बढ़ रहे थे तब IAS जेकब को कोविड की रोकथाम के लिए खास असाइनमेंट पर लखनऊ भेजा गया. अप्रैल के तीसरे हफ़्ते में जहां कोविड के 6000 केस आ रहे थे, 4 जून तक ये संख्या घटकर 40 हो गई थी.

2013 में उन्होंने गोंडा जैसे ज़िले में LPG वितरण के काम को सुचारू ढंग से चलाया. 2014 में कानपुर नगर जैसे ज़िले में उन्होंने सोशल मीडिया के इस्तेमाल को बढ़ावा दिया, जनता की समस्याएं सुनी और सुलझाई.

उत्तर प्रदेश खनन विभाग की पहली महिला प्रमुख

IAS जेकब की तारीफ़ मुख्यमंत्री से लेकर हर बड़े नेता और अधिकारी करते हैं. उन्हें राज्य सरकार ने प्रदेश के खनन विभाग की पहली महिला प्रमुख के रूप में चुना. 2020 में लॉकडाउन के दौरान खनन का काम शुरू करवाने वाली वे पहली अधिकारी हैं.

बाढ़ के पानी में उतर गईं

IAS जेकब लखनऊ की मंडलायुक्त का पद संभाल रही हैं. मध्य सितंबर 2022 में लखनऊ में तेज़ बारिश के बाद जगह-जगह पानी भरने लगा. दैनिक जागरण की रिपोर्ट के अनुसार, लोगों का हाल जानने के लिए IAS जेकब खुद पानी में उतर गईं. लखनऊ के कई जगहों पर घुटने तक पानी में चलकर उन्होंने इलाकों का जायज़ा लिया.

IAS जेकब बस्ती, गोंडा, कानपुर नगर, राय बरेली और बुलंदशहर की डीएम रह चुकी हैं. को कविताएं लिखने का भी शौक है, और A Handful of Stardust नाम से उनकी एक किताब भी आ चुकी है.

[ डि‍सक्‍लेमर: यह न्‍यूज वेबसाइट से म‍िली जानकार‍ियों के आधार पर बनाई गई है. Lok Mantra अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है. ]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Don`t copy text!