कच्चा बादाम के बाद वायरल हुआ ‘नमकीन के पैकेट, तीस रुपइया के’, शख्स अनोखे अंदाज में बेच रहा नमकीन

बचपन का प्यार और कच्चा बादाम जैसे अतरंगी गीतों के ताबड़तोड़ वायरल होने के बाद सोशल मीडिया पर ऐसे वीडियोज़ की तो जैसे बाढ़ ही आ गई. विशेष कर कच्चा बादाम के बाद सामन बेचने वालों द्वारा गाए जाने वाले गीत जैसे कि, कच्चा अमरूद और लेमन सोडा भी वायरल हुए.

नमकीन बेचने का है गजब अंदाज

 

एक बार फिर से इस ट्रेंड को हवा दी है नमकीन बेचने वाले एक शख्स ने. ये शख्स “नम नम नम नम नमकीन के पैकेट और ती ती ती ती ती तीस रुपइया के” जैसा गीत गा कर नमकीन बेचता नजर आया है.

अब इस शख्स का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. बताया जा रहा है कि ये वीडियो मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल का है.

इस वीडियो में आप देखेंगे कि एक शख्स अपने स्कूटर पर थैली में रखे नमकीन बेच रहा है. इसके नमकीन बेचने का अंदाज अनोखे लग रहा है. लोग इस निराले अंदाज में गाए जाने वाले गीत को सुनकर इस शख्स को नमकीन खरीदने बुला रहे हैं.

लोगों को नमकीन बेचने के समय भी ये शख्स अपने नमकीन की खासियत गा कर बताता है. अब इस वीडियो में इस नमकीन बेचने वाले शख्स के अनोखे अंदाज में गाए गीत को लोग खूब पसंद कर रहे हैं.

भोपाल के हैं रहने वाले

View this post on Instagram

A post shared by ABP News (@abpnewstv)

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार नमकीन बेचने वाले इस शख्स का नाम नसीम अहमद है. भोपाल के शाहजहानाबाद इलाके के रहने वाले अहमद ने आजतक को बताया कि वह स्कूटर पर नमकीन बेचते हैं. उनका सोशल मीडिया पर वायरल हुआ वीडियो भोपाल के कर्बला इलाके का है.

नसीम अहमद पेशे से स्कूटर मैकेनिक थे. वह अपनी दो बेटियों और पत्नी के साथ भोपाल के शाहजहांबाद इलाके के कुम्हारपुरा में रहते हैं. 30 साल तक स्कूटर मैकेनिक का काम करने वाले अहमद ने ये काम अब छोड़ दिया है क्योंकि अब उनकी कमर में तकलीफ रहती है.

स्कूटर मैकेनिक के बाद अब वह पिछले 6 साल से नमकीन बेचने का काम कर रहे हैं. वह इसी तरह हर रोज अलग-अलग मोहल्ले में जा कर अपने अनोखे अंदाज में नमकीन बेचते हैं.

नसीम इस तरह नमकीन बेचने की दो वजहें बताईं. पहली तो ये कि इससे लोगों का मनोरंजन होता है और दूसरी वजह ये कि जब वह अपने इस अंदाज में नमकीन बेचते हैं तो उनका अच्छा प्रचार होता है. लोग उनकी तरफ आकर्षित होते हैं और उनसे नमकीन खरीद लेते हैं. नमकीन बेचने की शुरुआत नसीम की पत्नी ने की थी.

पहले नमकीन बेचने में आती थी शर्म

उन्होंने बताया कि, ‘शुरुआत में उन्हें नमकीन बेचने में शर्म आती थी. वह अपनी पत्नी के साथ नमकीन बेचने जाते तो शर्म के मारे छुप जाया करते. लेकिन धीरे धीरे उन्होंने इस काम की जिम्मेदारी अपने ऊपर ले ली.

वह कहते हैं कि उन्होंने 160 रुपये से इस काम की शुरुआत की थी. आज अपनी मेहनत के द, पर वह आत्मनिर्भर हो गए हैं. और पूरे परिवार के साथ खुशी-सुख से रह रहे हैं.

[ डि‍सक्‍लेमर: यह न्‍यूज वेबसाइट से म‍िली जानकार‍ियों के आधार पर बनाई गई है. Lok Mantra अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है. ]

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Don`t copy text!