अमेरिकी सेना ने यूक्रेनी सेना को जर्मनी में ट्रेनिंग देना फिर शुरू किया, बढ़ेगी रूस की टेंशन

अमेरिका के ज्वाइंट चीफ्स ऑफ स्टाफ के अध्यक्ष जनरल मार्क मिले ने कहा कि अमेरिकी सेना ने यूक्रेनी बलों का एक नया व विस्तारित युद्ध प्रशिक्षण रविवार से जर्मनी में शुरू किया, जिसका मकसद अगले पांच से आठ सप्ताह में रूसियों से लड़ने के लिए करीब 500 सैनिकों की एक बटालियन को तैयार करना है.

मिले की सोमवार को ग्रैफेनवोहर प्रशिक्षण क्षेत्र का दौरा करने की योजना है. वह इस प्रशिक्षण की निगरानी कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि प्रशिक्षित किए जा रहे सैनिक कुछ दिन पहले यूक्रेन से निकले थे. जर्मनी में उनके प्रशिक्षण के लिए हथियारों और उपकरणों का एक पूरा जखीरा मौजूद है.

अमेरिका के रक्षा मंत्रालय के मुख्यालय पेंटागन ने अभी तक इस संबंध में कोई जानकारी नहीं दी थी कि यह प्रशिक्षण कब शुरू होगा. इस तथाकथित संयुक्त हथियार प्रशिक्षण का मकसद यूक्रेनी बलों के कौशल को बढ़ाना है ताकि वे हमला करने या रूसी हमलों का मुकाबला करने के लिए बेहतर ढंग से तैयार हों.

वे तोपों, हथियारों और थल सेना का इस्तेमाल करके युद्ध में अपनी टुकड़ियों और बटालियन के साथ बेहतर ढंग से समन्वय स्थापित करना सीखेंगे. मिले ने उनके साथ यूरोप की यात्रा कर रहे दो पत्रकारों से कहा

कि इस जटिल प्रशिक्षण में यूक्रेन ले जाए जाने वाले नए हथियार, तोपें, टैंक और अन्य वाहन शामिल हैं जो देश की सेना को उस क्षेत्र को वापस लेने में मदद करने के लिए महत्वपूर्ण होंगे जिस पर रूस ने कब्जा कर लिया है.

मिले ने कहा, ‘‘यूक्रेन को खुद की रक्षा करने में सक्षम बनाने के लिए यह मदद बेहद महत्वपूर्ण है. हम उम्मीद कर रहे हैं कि बिना किसी विलंब हम इसे पूरा कर पाएंगे.’’ उन्होंने कहा कि‘‘ हमारा मकसद मदद के लिए दिए जा रहे हथियारों व उपकरणों को यूक्रेन पहुंचाना है ताकि नए प्रशिक्षित बल वसंत की बारिश से पहले’’ इसका इस्तेमाल कर सकें.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Don`t copy text!