दूसरे प्रयास में 19वीं रैंक प्राप्त करने वाले अभिजीत ने ऐसे तय किया IIT से IAS बनने तक का सफर

आज हम आपको अभिजीत सिन्हा के बारे में बताएंगे जो पहले प्रयास में मिली असफलता के बाद हताश हो गए थे लेकिन इसके बावजूद भी उन्होंने दोबारा प्रयास किया और कामयाबी हासिल की। अभिजीत की पढ़ाई लिखाई की बात करें तो स्कूली शिक्षा पूरी करने के बाद उन्होंने आईआईटी कानपुर से बीटेक की डिग्री हासिल की है।

अभिजीत ने सिविल सेवा परीक्षा के दो अटेम्प्ट दिए हैं। अपने पहले ही प्रयास में अभिजीत इंटरव्यू राउंड के लिए सेलेक्ट हो गए थे लेकिन उनका फाइनल सेलेक्शन नहीं हो पाया था। इस बात से अभिजीत काफी निराश हो गए थे। इस दौरान उनके परिवार वालों ने अभिजीत का साथ दिया और हर कदम पर प्रोत्साहित किया। इसके बाद अभिजीत ने दोबारा सिविल सेवा परीक्षा देने का मन बनाया और इसकी तैयारी शुरू कर दी। आखिरकार, साल 2017 में सिविल सेवा परीक्षा के अपने दूसरे ही प्रयास में‌ अभिजीत ने न केवल यह कठिन परीक्षा पास कर ली थी बल्कि 19वीं रैंक के साथ टॉपर भी बनें।

अभिजीत कहते हैं कि इस परीक्षा के लिए लोग अपनी क्षमता अनुसार रणनीति तैयार करके पढ़ाई कर सकते हैं लेकिन सबसे पहले ज़रूरी यह है कि आप परीक्षा पैटर्न को अच्छी तरह से समझें। इसके बाद आप बेसिक्स के लिए एनसीईआरटी किताबों को अवश्य पढ़ें। इन किताबों को पढ़ने के बाद ही कुछ सीमित लेकिन स्टैंडर्ड किताबों को चुनें और फिर उससे आगे की तैयारी करें। अभिजीत के अनुसार पढ़े हुए विषयों के डिजिटल नोट्स बनाना ज्यादा बेहतर होता है। इस तरह से आप आसानी से किसी भी टॉपिक को ढूंढ सकते हैं और उसमें कुछ भी घटा या बढ़ा सकते हैं।

मेन्स परीक्षा के लिए अभिजीत आंसर राइटिंग और टेस्ट सीरीज पर फोकस करने के लिए कहते हैं। साथ ही प्रीलिम्स और मेन्स के लिए कई सारे मॉक टेस्ट भी जरूर दें। कठिन परिश्रम और दृढ़ निश्चय के साथ ही जरूरी है कि आप तैयारी के दौरान धैर्य बनाए रखें क्योंकि कई बार सफलता प्राप्त करने में काफी समय लग जाता है। ऐसे में धीरज और सकारात्मक सोच से ही मेहनत करने के लिए प्रोत्साहन मिलता है।

[ डि‍सक्‍लेमर: यह न्‍यूज वेबसाइट से म‍िली जानकार‍ियों के आधार पर बनाई गई है. Lok Mantra अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है. ]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Don`t copy text!