हाईटेक निगरानी में होगी अब UP Board की बोर्ड परीक्षाएं, आंसर शीट पर बार कोड, क्लास में सीसीटीवी

उत्तर प्रदेश सरकार इस बार चाहती है कि पूरे प्रदेश में यूपी बोर्ड की 10वीं और 12वीं की परीक्षाएं पूरी तरीके से नकल विहीन हो. जिसके लिए तैयारियां शुरू हो चुकी हैं. खासतौर से अगर हाईटेक जिले गौतमबुद्ध नगर की बात करें तो यहां पर भी 10वीं और 12वीं बोर्ड परीक्षाओं की तैयारियां जोरों पर है.

इस बार यह परीक्षाएं हाईटेक सिक्योरिटी की निगरानी में होंगी. एक तरफ जहां आंसर शीट पर बारकोड लगए जाएंगे वहीं दूसरी तरफ क्लास में सीसीटीवी कैमरे लगे होंगे इसके साथ साथ जिला प्रशासन एक कमांड कंट्रोल रूम भी बनाएगा.

पुलिस की सुरक्षा व्यवस्था 24 घंटे

मिले आंकड़ों के मुताबिक इस बार जिले में 41 हजार से ज्यादा बच्चे 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाएं देंगे. इन परीक्षाओं को सही तरीके से करवाने के लिए करीब 2000 से ज्यादा लोगों को इस दौरान लगाया जाएगा. पुलिस की सुरक्षा व्यवस्था 24 घंटे रहेगी. जिले की बात करें तो यहां पर 165 मान्यता प्राप्त स्कूल हैं और 57 केंद्रों पर बच्चे परीक्षा देंगे.

परीक्षा में नकल पर नकेल

जिले के शिक्षा विभाग से मिली जानकारी के मुताबिक इस बार आंसर शीट  पर बार कोड लगाया जाएगा. अक्सर यह देखने को मिला है कि उत्तर प्रदेश बोर्ड की परीक्षाओं में कई बार गड़बड़ियां और नकल की कहानियां और किस्से सामने आए हैं.

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने इस बार यह फैसला लिया है कि इस तरीके की कोई भी गड़बड़ी नहीं होगी. परीक्षाएं पूरी तरीके से नकल विहीन होंगी. इसलिए नकल माफियों पर अंकुश लगाने की तैयारी की जा रही है.

ट्रोल फ्री नंबर पर कर सकते हैं शिकायत

डीआईओएस धर्मवीर सिंह ने बताया है की इस बड़ा हाईटेक तरीके से इन परीक्षाओं पर नजर रखी जायेगी. एग्जाम सेंटर वॉयस रिकॉर्डर सीसीटीवी निगरानी में रहेंगे, जिला प्रशासन की तरफ से कंट्रोल रूम बनाया गया है.

साथ ही टोल फ्री नंबर 18001805310, 18001805312 पर कर कोई भी कॉल कर समस्या से अवगत करा सकते हैं. उन्होंने बताया है की इस बार इन परीक्षाओं में 2 हजार के करीब मैनपावर डिलॉपमेंट किया जाएगा.

24 घंटे पुलिस डिप्लॉयमेंट भी रहेगा. दिव्यांगों के लिए अलग से परीक्षा केंद्रों पर रैम्प की सुविधा रहेगी. उन्होंने बताया है की एग्जाम पेपर सेंटर तक पहुंचने वाले वाहनों को जीपीएस से ट्रैक किया जाएगा. सरकारी आंकड़ों के मुताबिक जिले में कुल 165 मान्यता प्राप्त स्कूल हैं, जिसमें से 57 एग्जामिनेशन सेंटर पर छात्र अपनी परीक्षा देंगे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Don`t copy text!