मात्र 30 हज़ार की लागत से उमंग श्रीधर ने 60 लाख तक का व्यापार किया: Khadigi के कारण इन्हें फोर्ब्स के लिए भी चुना गया

कहा जाता है न कि, अगर इंसान चाहे तो अपने हौसलों के बल पर कोई भी मुकाम पा सकता है, चाहे राह कितनी भी कठिन क्यूं न हो। आज हम एक ऐसी ही लड़की की बात करेंगे, जिन्होंने अपनी मेहनत के बदौलत देश के टॉप 50 सोशल उद्यमियों की सूची में अपनी जगह बनाई। 30 हज़ार से की थी कारोबार की शुरुआत लेकिन अब इनकी कपंनी का सालाना टर्नओवर 60 लाख रुपये है।

आइये जानते है, इस होनहार लड़की की कामयाबी के सफर की कहानी।

परिचय

देश के मध्यप्रदेश राज्य की राजधानी भोपाल (Bhopal) की रहने वाली एक लड़की उमंग श्रीधर ने अपने काबिलियत के बल पर देश के बड़े टॉप 50 उधोगपतियों के सूची मे अपनी एक जगह बनाई है, इतना ही नही इनका नाम पिछले साल प्रतिष्ठित मैगजीन FORBES में अंडर-30 अजीवर्स की सूची में भी शामिल था। बता दें कि, इनकी मां जनपद की अध्यक्ष रह चुकी हैं। उमंग ने अपनी मां को देखते हुए बेहतरीन तथा बड़ा काम करने का सपना देख था तथा इस सपने को हासिल करने के लिए इन्होंने बहुत कठिन परिश्रम किया है।

अपने कंपनी के जरिये सैकडों लोगों को दिया रोजगार

आपको बता दें कि, उमंग श्रीधर का कंपनी का नाम KhaDigi है, जिसका मेन ऑफिस भोपाल में स्थित है। इस कंपनी की शुरुआत इन्होंने मात्र 30 हज़ार रुपये में की थी लेकिन आज इस कपंनी का सालाना टर्नओवर 60 लाख रुपये है। इस कंपनी के जरिये उमंग श्रीधर ने लगभग सैकड़ो लोगों को रोजगार दिया है, बहुत से लोग अपनी रोजी-रोटी के लिए इस कंपनी के पर निर्भर है। अब यह कंपनी देश के प्रचलित ब्रांड में शामिल हो गया है।

कंपनी के नाम के लिए अच्छे से किया रिसर्च, फिर रखा KhaDigi नाम

उमंग श्रीधर ने कंपनी का नाम KhaDigi बहुत रिसर्च के बाद रखा है। KhaDigi दो शब्दों से मिलकर बना है, जिसमे खादी और जी शब्द शामिल है। इस कंपनी में चरखे को डिजिटल रूप में लोगों के सामने प्रस्तुत किया गया है। इस कंपनी से खादी कपड़े तथा हैंडलूम फैब्रिक की बुनाई की जाती है तथा मध्यप्रदेश, महराष्ट्र और पश्चिम बंगाल के बुनकरों को रोजगार भी मिलता है, जिससे वों परिवार के दो वक्त की रोजी-रोटी दे पाते हैं।

KhaDigi बहुत इंडस्ट्रीज को करती है खादी की सप्लाई

उमंग ने मात्र 30 हज़ार में इस कारोबार की शुरुआत की थी, लेकिन उनकी कंपनी KhaDigi ने धीरे-धीरे कामयाबी के तरफ अपना रुख किया और आज वह कंपनी डिजाइनर, रिटेलर्स और होलसेल जैसे इंडस्ट्रीज में अपना खादी का माल का सप्लाई करती है। आज उस कंपनी की पूरे देश मे नाम तथा अपनी एक अलग पहचान है। आज इस कंपनी का सालाना 60 लाख रुपये का टर्नओवर है।

इससे भी ज्यादा आगे बढ़ने के लिए करती है दिनों-रात मेहनत

देश मे KhaDigi की अपनी एक अलग पहचान है तथा देश के टॉप ब्रांड में भी शामिल है। उमंग का सपना इससे भी ज्यादा आगे बढ़ने का है। इसके लिए वो दिन-रात एकजुट किये रहती है। उनका कहना है कि, बांस और सोयाबीन से निकले मटेरियल का उपयोग करके इको फ़्रेंडली फैब्रिक तैयार करके, उसको विदेशों में बेचकर एक अच्छा मुनाफा कमाया जा सकता है।

लॉकडाउन में दिया 50 महिलाओं को रोजगार

उमंग ने लॉकडाउन के दौरान लगभग 50 महिलाओं को रोजगार दिया है तथा उनकी कंपनी KhaDigi ने जरूरतमंदों को 2 लाख से ज्यादा मास्क बनाकर बांटा भी है।

अगर देश के युवा सरकारी नौकरी के पीछे पड़कर अपना समय न खराब करें और ऐसे ही खुद का छोटा सा कारोबार की शुरुआत करें तो उनके साथ-साथ देश के बाकि लोगों को भी अच्छा रोजगार मिल जाएगा।

[ डि‍सक्‍लेमर: यह न्‍यूज वेबसाइट से म‍िली जानकार‍ियों के आधार पर बनाई गई है. Lok Mantra अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है. ]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Don`t copy text!