बिहार में पैदा हुए ये 3 IAS अफसर, अपने गांवों में पाठशाला खोले हैं, बच्चों को फ्री में पढ़वाते हैं

बिहार में पैदा हुए ये 3 IAS अफसर, अपने गांवों में पाठशाला खोले हैं, बच्चों को फ्री में पढ़वाते हैं

बिहार से ताल्लुक रखने वाले एक सीनियर अफसर ने पाठशाल की शुरुआत की है. इसका नाम उन्होंने अंबेडकर इनिशिएटिव फॉर दी मार्जिनलाइज्ड AIM रखा है. बिहार के गोपालगंज, समस्तीपुर और औरंगाबाद जिले में शुरू इस पाठशाला को उन्होंने अपने सामाजिक दायित्व के नाते स्थापना की है.

इन स्कूलों में 450 से ज्यादा बच्चे पढ़ रहे हैं. इसमें 40% लड़कियां हैं, जिन्हें फ्री ट्यूशन फ्री और स्टडी मेटेरियल दी जा रही है.

अफसर का नाम संतोष कुमार, विजय कुमार और रंजन प्रकाश है. संतोष 2014 बैच के आईएएस अफसर हैं. वह इस समय अरुणांचल प्रदेश स्टाफ सिलेक्शन में हैं. विजय संतोष के बैचमेट हैं और इंडियन रेलवे ट्रैफिक सर्विस में यूपी के गोरखपुर में पोस्टेड हैं. रंजन प्रकाश सीआरपीएफ में डिप्टी कमांडेंट हैं और असम में पोस्टेड हैं.

साल 2019 में हुई थी शुरुआत

तीनों ने साल 2019 में AIM पाठशाला की शुरुआत की. संतोष कुमार ने समस्तीपुर के बसंतपुर रमनी गांव में खोले. विजय कुमार ने गोपालगंज के पिठौरी गांव में तो रंजन प्रकाश ने औरंगाबाद के तरारी गांव में खोले. ये क्लास पूरी तरह से इन लोगों के द्वारा ही पोषित है. उन्होंने 6 टीचर की नियुक्ति की है और उनकी फिक्स महीने की सैलरी है.

हर महीने भेजते हैं पैसे

तीनों अफसर हर महीने एक अमाउंट फिक्स किए हैं जो इन पाठशालाओं में खर्च करते हैं. टीचर्स को हायर करने से पहले ये अफसर खुद ही बच्चों को पढ़ाते थे. अब भी वह गांव लौटने पर पाठशाला में बच्चों को पढ़ाते हैं.

[ डि‍सक्‍लेमर: यह न्‍यूज वेबसाइट से म‍िली जानकार‍ियों के आधार पर बनाई गई है. Lok Mantra अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है. ]

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Don`t copy text!