YouTube पर वीडियो देखे और किसानों की मदद करने के लिए तैयार कर दी धान रोपने की मशीन

कहते हैं आवश्यकता ही आविष्कार की जननी है. और दिल में अगर किसी की भलाई करने की भावना हो तो कुछ जुगाड़ू बनाने का आइडिया भी मिला जाता है और कैसे बनाना है इसका जवाब भी. तेलंगाना के एक ITI से पासआउट शख्स ने इस कहावत को सार्थक कर दिया है.

किसानों के लिए बना दी धान रोपने की मशीन

News18 के लेख के अनुसार, कम्मारी नागास्वामी तेलंगाना के ज़िला कामरेड्डी  के भिखनूर मंडल स्थित काचापुर  गांव का रहने वाला है. ITI पास करने के बाद नागास्वामी ने हैदराबाद की एक प्राइवेट कंपनी में नौकरी जॉइन की और अपने परिवार की आर्थिक तौर पर मदद करने लगा.

कोविड की वजह से दुनियाभर के कई लोगों को अपनी नौकरी खोनी पड़ी और बदकिस्मती से नागास्वामी भी उन्हीं में से एक हैं.

गांव लौटकर खेती शुरू की

हैदराबाद की नौकरी छूटने के बाद नागास्वामी अपने गांव लौट आए. गांव की एक एकड़ ज़मीन वे खेती-बाड़ी करने लगे. मां की मदद से नागास्वामी ने खेती-बाड़ी शुरू की और उनका ध्यान किसानों की समस्याओं पर भी गया.

नागास्वामी ने देखा कि किसानों को धान की रोपाई में काफ़ी परेशानी होती है. उन्होंने ये भी देखा कि खेतों में धान रोपने के लिए मज़दूरों की कमी है.

किसानों की मदद करने के लिए बनाई मशीन

नागास्वामी ने किसानों की समस्याएं देखी और उसे कुछ हद तक सुलझाने की ठान ली. उन्होंने YouTube पर DIY ट्यूटोरियल्स  देखना और उनसे सीखना शुरू किया. उनके दिमाग में सिर्फ़ एक लक्ष्य था- किसानों की मदद के लिए एक मशीन बनाना.

एक साल की मेहनत, भाई के साथ और 50,000 रुपये की लागत नागास्वामी ने धान रोपाई की मशीन बना ली. इस मशीन में 2 12 वोल्ट की बैट्री और बीआरटीएस मोटर लगा है.

नागास्वामी द्वारा बनाई गई मशीन सिर्फ़ बैटरी से चलती है और इस वजह से मज़दूरों को हाथ से काम करने की ज़रूरत नहीं पड़ेगी. नागास्वामी ने नि सिर्फ़ अपने गांव के किसानों की बल्कि कई किसानों को उनकी समस्याओं का हल दे दिया.

[ डि‍सक्‍लेमर: यह न्‍यूज वेबसाइट से म‍िली जानकार‍ियों के आधार पर बनाई गई है. Lok Mantra अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है. ]

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Don`t copy text!