सूर्यकुमार से इंटरव्यू में बोले विराट- हम तो कई साल से लगे हैं, जो आप कर रहे वह अलग है

श्रीलंका के खिलाफ वनडे सीरीज के पहले मैच में विराट कोहली ने शानदार बल्लेबाजी की और 113 रन की बेहतरीन पारी खेली। वनडे क्रिकेट में यह उनका 45वां शतक था। उनके इस शतक के चलते भारत ने 373 रन का विशाल स्कोर बनाया और 67 रन के अंतर से यह मैच अपने नाम किया।

इस मैच के बाद सूर्यकुमार यादव ने विराट कोहली का इंटरव्यू किया। इस दौरान कोहली ने बुरे दौर से वापसी की कहानी बताई और खराब फॉर्म से उबरने का तरीका भी समझाया।

सूर्यकुमार यादव ने विराट को नए साल की शुभकामनाएं देते हुए इंटरव्यू की शुरुआत की। सूर्या ने बताया कि एशिया कप के दौरान कोहली ने इंटरव्यू लिया था और अब उन्हें विराट को इंटरव्यू लेने का मौका मिला है।

इस मौके के लिए उन्होंने सभी का शुक्रिया अदा किया। सूर्यकुमार ने बताया कि विराट ने 2022 के आखिरी मैच में शतक लगाया था और 2023 में अपने पहले मैच में शतक लगाया है। इस पर विराट ने सूर्यकुमार यादव को नए साल की शुभकामनाएं दीं और उन शानदार चीजों के लिए भी बधाई दी, जो उन्होंने इस साल की हैं।

विराट ने कहा “हम लोग तो इतने साल से लगे हुए हैं, लेकिन आपने जो पिछले एक साल में किया है, वह खास है। मैंने ऐसा पहले कभी नहीं देखा। आप एक अलग टेम्पलेट बना रहे हैं। जब आप बल्लेबाजी करते हैं तो दर्शकों के अंदर अलग उत्साह होता है।”

अपने शतक पर खुशी जाहिर करते हुए कोहली ने कहा कि वह खुश हैं कि ये चीजें हो रही हैं। पिछले दो साल में ऐसा साल नहीं शुरू हुआ। इस बार साल के पहले मैच में ही उनके बल्ले से शतक निकला है।

वह लगभग पूरी पारी में बल्लेबाजी करके और भारत के स्कोर में अतिरिक्त 25-30 रन जोड़कर खुश हैं, जो उनके हिसाब से ओस को ध्यान में रखते हुए जरूरी थे। इस साल विश्व कप भी है और साल की शुरुआत में ही उनके बल्ले से शतक आ गया है।

ऐसे में वह ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट सीरीज और विश्व कप में भी ऐसा ही प्रदर्शन करना चाहते हैं और अपनी टीम को जीत दिलाना चाहते हैं। वह इस तरह की बल्लेबाजी करके खुश हैं।

जब वह अपने खेल से खुश होते हैं तो ऐसी बल्लेबाजी करना उनके लिए नया नहीं है। लंबे समय तक क्रिकेट खेलने पर आपकी मानसिक स्थिति में उतार चढ़ाव आते हैं, लेकिन मानसिक रूप से खुद को तरोताजा रहना उनकी मदद कर रहा है।

सूर्यकुमार ने विराट कोहली से उनके पिछले दो साल के बारे में पूछा कि उन्होंने ऐसा क्या किया जो 2023 में वह पहले मैच से ही शतक लगा रहे हैं। इस पर कोहली ने कहा “जब आप लगातार मैच खेलते हैं तो लोग अलग तरीके से आपसे उम्मीद करते हैं।

आप भी जितना ज्यादा खेलेंगे, यह महसूस करेंगे। अब सूर्या बल्लेबाजी के लिए आया है वह करके देगा। इसके लिए मजबूत इरादे चाहिए होते हैं, जब तक आपका समय अच्छा चलता है और रन बनते हैं तो इसमें काफी मजा आता है, लेकिन जब रन नहीं बनते, थोड़ा बुरा दौर आता है तो मेरे मामले में मुझे चिढ़ होने लगी थी।

लोगों की क्या उम्मीद है? मुझे ऐसा खेलना चाहिए। मैं ऐसा खेलना चाहता हूं। मुझे ऐसा खेलना पड़ेगा, लेकिन क्रिकेट मुझे ऐसा खेलने की अनुमति नहीं दे रहा था। इस वजह से मैं अपने असली खेल से काफी दूर था। मेरी उम्मीदें मुझ पर हावी हो रही थीं।

उस समय मुझे एहसास हुआ कि मुझे खुद को स्वीकार करना होगा। अगर मैं टीम में सबसे खराब खिलाड़ी हूं तो मुझे वह भी स्वीकार करना होगा। क्योंकि इस चीज को अस्वीकार करने से मेरे अंदर बहुत ज्यादा चिड़चिड़ापन आ रहा था, जो कि अच्छा नहीं था।

यह उन लोगों के लिए अच्छा नहीं था, जो मेरे करीब थे। अनुष्का या बाकी लोग जो मुझे हमेशा सपोर्ट करते हैं, उनके साथ यह सही व्यवहार नहीं था। इसके बाद जब मैं आराम के बाद एशिया कप में लौटा तो मुझे प्रैक्टिस में मजा आने लगा।

मैंने हमेशा ऐसे ही क्रिकेट खेला है। मेरी यही सलाह है कि अगर आप किसी चीज के लिए बेकरार हो रहे हैं तो दो कदम पीछे जाएं, क्योंकि बेकरारी में वह चीज आपसे और दूर चली जाती है।”

इसके बाद सूर्यकुमार यादव ने सभी से कहा कि इस बात को हमेशा ध्यान में रखें। कभी भी कुछ गलत होने पर मेहनत करते रहें। लगे रहें और अपने खेल का मजा लेते रहें। इसके बाद उन्होंने उम्मीद जताई की हर महीने विराट ऐसे शतक लगाएंगे और उन्हें कोहली का इंटरव्यू करने का मौका मिलेगा।

इसके बाद विराट ने मजाकिया अंदाज में कहा कि गेंदबाज जिस तरह सूर्यकुमार को आउट करने के लिए बेकरार होते हैं और वह उनसे दूर चले जाते हैं वो नहीं होना चाहिए। गेंदबाज डरते हैं कि यह आउट नहीं हो रहा, अब और मारेगा फिर होता भी यही है।

इनसे बात करने में हमेशा मजा आता है। हमारे लिए अच्छी शुरुआत है और उम्मीद है कि हम इसे जारी रखेंगे।

भारत और श्रीलंका के बीच पहले वनडे मैच में भारत ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 373 रन बनाए। इसके जवाब में श्रीलंकाई टीम ने 21 रन के अंदर दो विकेट गंवा दिए थे। इसके बाद यह टीम कभी भी मैच में वापसी नहीं कर पाई।

पाथुम निशांका 72 रन बनाकर आउट हुए। वहीं, श्रीलंकाई कप्तान दासुन शनाका ने अंत तक अकेले लड़ाई जारी रखी। उन्होंने 88 गेंद में नाबाद 108 रन बनाए, लेकिन श्रीलंका को जीत नहीं दिला सके। भारत ने यह मुकाबला 67 रन से जीता।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Don`t copy text!