कभी खुदखुशी करने की कोशिश की, रेलवे में पेपर डालकर सोये; आज है 180 करोड़ रुपये के मालिक

किसी ने सच ही कहा है कि सच्चा जुगलबंद वही है जो बुरे वक्त में भी हिम्मत रखता है और जीतकर लक्ष्य को हासिल करता है. भारतीय क्रिकेट टीम के सुरेश रैना ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास ले लिया. उन्होंने अपने करियर के मुश्किल समय में भारत के लिए कई अहम मैच खेले. हालांकि उनके लिए यहां तक ​​पहुंचने का सफर आसान नहीं था. रैना घरेलू जिम्मेदारियों में अपने करियर के शुरुआती दौर में थे. उन्हें लाखों का कर्ज भी लेना पड़ा.

क्रिकेट की आज की दुनिया में सुरेश रैना को किसी परिचय की जरूरत नहीं है, क्रिकेट के मैदान पर उनका बल्ला दहाड़ता है. सुरेश रैना भले ही इन दिनों आसमान की बुलंदियों को छू रहे हों, लेकिन क्रिकेट में आने से पहले उन्हें जिन मुश्किलों का सामना करना पड़ा, उन्हें नजरअंदाज नहीं किया जा सकता. रैना उस वक्त इतने परेशान थे कि उन्होंने खुद को मारने की भी कोशिश की तो आइए देखते हैं कैसे शुरू हुआ इस करियर की शुरुआत.

रैना मेरठ के रहने वाले हैं और पढ़ाई के दौरान हॉस्टल में रहते हुए भी उन्हें वहां कई मुश्किलों का सामना करना पड़ा और उन्होंने खुद एक इंटरव्यू में कहा था कि एक बार वह ट्रेन से मैच खेलने जा रहे थे और उनके पास टिकट नहीं था. , इसलिए उसे ट्रेन के नीचे कागज के साथ सोना पड़ा.उस पर बादाम में किसी ने पेशाब कर दिया, इस बीच रैना केवल 13 साल के थे.

अगर आप अपने काम में माहिर हैं तो लोग आपको परेशान करेंगे, जैसा रैना के साथ हुआ था, जिसके साथ उनके वरिष्ठों ने अच्छा व्यवहार नहीं किया, उन्हें रैना का कोच बहुत पसंद था क्योंकि वह एक अच्छे इंसान थे. खिलाड़ी कभी-कभी उसे जान बूझकर सोने नहीं देता था. उसके खाने में घास भी थी जिससे वह अच्छा नहीं खेल पाता था.

किसी भी क्षेत्र में मानसिक संतुलन बहुत जरूरी है.एक समय था जब रैना बहुत खराब मानसिक स्थिति से गुजर रहे थे क्योंकि एक बार रैना को हॉकी स्टिक से भी मारा गया था, फिर रैना ने एक साल बाद छात्रावास छोड़ दिया, लेकिन फिर रैना के भाई दिनेश ने उन्हें ले लिया वापस छात्रावास गया और इस दुर्घटना के कारण उसने आत्महत्या कर ली. करने की कोशिश की लेकिन जिम्मेदारियों के कारण नहीं कर सका.

उस समय सुरेश रैना के पास केवल 200 रुपये थे जिससे वह समोसे और बिस्कुट खाते थे. कुछ ही समय बाद रैना को एयर इंडिया के लिए खेलने का मौका मिला और 1999 में उन्हें एयर इंडिया से 10,000 रुपये की छात्रवृत्ति मिली, जिसमें से 8,000 रुपये घर पर और 2,000 रुपये अपने लिए रखे गए.

इसके बाद वे 2003 में एक क्रिकेट क्लब खेलने के लिए इंग्लैंड गए और एक हफ्ते तक मैच खेलने के बाद उन्हें उस समय 250 ब्रिटिश पाउंड मिले. 2005 में, उन्हें दो साल बाद टीम इंडिया में चुना गया और भारत के लिए अपना पहला मैच खेला.

फिर आई इंडियन प्रीमियर लीग, जो उनका दूसरा बड़ा टर्निंग पॉइंट था, जिसके बाद रैना कभी रुके नहीं और चलते रहे. आज रैना को MR.IPL के नाम से भी जाना जाता है.

[ डि‍सक्‍लेमर: यह न्‍यूज वेबसाइट से म‍िली जानकार‍ियों के आधार पर बनाई गई है. Lok Mantra अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है. ]

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Don`t copy text!