मां ने लोगों के घर काम करते हुए पढ़ाया, झोपड़ी में रहने वाले बेटे ने पा ली 35 लाख की स्कॉलरशिप

अमरजीत को मिली 35 लाख की स्कॉलरशिप

सफलता की एक और कहानी है पटना की झोंपड़पट्टी में रहने वाले अमरजीत की. अमरजीत को अपनी मेहनत और लगन के दम पर बेंगलुरू की अटारिया यूनिवर्सिटी में 35 लाख की स्‍कॉलरशिप मिली है.

घरों में बर्तन साफ करती है मां

पटना के बोरिंग रोड इलाके में एक झोपड़ी में रहने वाले छात्र अमरजीत अब बेंगलुरू के अटरिया यूनिवर्सिटी में इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर सकेंगे. इसके लिए उन्हें यूनिवर्सिटी ने 35 लाख का स्कॉलरशिप ऑफर किया है. अमरजीत के लिए ये ऑफर एक सपने के सच होने जैसा है.

अपने पिता को खो चुके अमरजीत, मां की मेहनत के दम पर ही यहां तक पहुंच सके हैं. उनकी मां ने लोगों के घरों मे बर्तन मांजकर उन्हें पढ़ाया है.

मां की हिम्मत और मेहनत के कारण ही अमरजीत पटना के सेंट डॉमिनिक स्कूल से 12वीं तक कि पढ़ाई करने के साथ साथ डेक्सटेरिटी ग्लोबल में ट्रेनिंग ले पाए. अमरजीत की मां डेक्सटेरिटी ग्लोबल के संस्‍थापक शरद सर के घर काम करती थीं. उन्होंने अमरजीत को उसी स्कूल में दाखिला दिलाया जिसमें वो खुद पढ़े थे.

[ डि‍सक्‍लेमर: यह न्‍यूज वेबसाइट से म‍िली जानकार‍ियों के आधार पर बनाई गई है. Lok Mantra अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है. ]

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Don`t copy text!