तालिबान ने चोरी और समलैंगिक संबंध के आरोप में 9 लोगों को मारे कोड़े, काट दिए हाथ, सजा सुनकर कांप जाएगी रूह

अफगानिस्तान में तालिबान (Taliban) के सत्ता में वापस आते ही देश में आतंक का वर्चस्व फिर से कायम हो गया है. इस्लामिक देश में शरिया कानून (Sharia Law) के तहत डकैती और समलैंगिक संबंध (Sodomy) के नौ दोषियों को कंधार के अहमद शाही स्टेडियम में सार्वजनिक रूप से कोड़े मारे गए.

देश की न्यूज़ एजेंसी टोलो न्यूज के अनुसार, प्रांतीय गवर्नर के प्रवक्ता हाजी जैद ने कहा कि दोषियों को करीब 35 से 39 बार कोड़े मारे गए थे, इस दौरान अधिकारी और स्थानीय निवासी मौजूद थे.

न्यूज़ एजेंसी ने सुप्रीम कोर्ट के हवाले से बताया कि मंगलवार को कंधार के अहमद शाही स्टेडियम में डकैती और समलैंगिकता के आरोप में नौ लोगों को सजा दी गई.

ब्रिटेन में अफगान पुनर्वास मंत्री के पूर्व नीति सलाहकार, शबनम नसीमी ने ट्वीट कर बताया कि तालिबान ने कथित तौर पर आज कंधार के एक फुटबॉल स्टेडियम में लोगों के सामने चोरी के आरोपी 4 लोगों के हाथ काट दिए हैं.

निष्पक्ष जांच और उचित प्रक्रिया के बिना अफगानिस्तान में लोगों को पीटा जा रहा है, काट दिया जा रहा है और मार डाला जा रहा है. यह मानवाधिकारों का उल्लंघन है.

वहीं संयुक्त राष्ट्र के विशेषज्ञों ने सजा के एक रूप के रूप में कोड़े मारने की निंदा की है और तालिबान से सभी प्रकार के कठोर दंडों को तुरंत रोकने का आह्वान किया है. आपको बता दें कि पिछले साल दिसंबर में, तालिबान ने ऐसे ही आरोपों में सार्वजनिक रूप से एक व्यक्ति को मार डाला था.

महिलाओं की शिक्षा पर भी रोक

अफगानिस्‍तान में तालिबान ने लड़कियों और महिलाओं की यूनिवर्सिटी शिक्षा पर रोक लगा दी है. न्यूज एजेंसी AFP के अनुसार तालिबान के उच्च शिक्षा मंत्रालय ने मंगलवार को अफगानिस्तान में महिलाओं के लिए विश्वविद्यालय शिक्षा पर अनिश्चितकालीन प्रतिबंध लगाने का आदेश दिया.

इसके बाद इस आदेश की अंतरराष्ट्रीय स्तर पर निंदा की जा रही है. संयुक्त राज्य अमेरिका और संयुक्त राष्ट्र ने इसे मानवाधिकारों पर एक और हमला करार दिया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Don`t copy text!