एक बार नहीं 4 बार हुई थी रतन टाटा को मोहब्बत, जानिये उनकी लव-लाइफ के दिलचस्प किस्से

एक बार नहीं 4 बार हुई थी रतन टाटा को मोहब्बत, जानिये उनकी लव-लाइफ के दिलचस्प किस्से

टाटा ग्रुप के चेयरमैन रतन टाटा (Ratan Tata) अपनी एक फोटो शेयर करने के बाद से ही सुर्खियों में आ गए हैं। तीन महीने पहले इंस्टाग्राम से जुड़ने वाले रतन टाटा (Ratan Tata) ने इंस्टाग्राम (Instagram) पर अपनी एक पुरानी फोटो शेयर की है। 82 वर्षीय रतन टाटा ने लॉस एंजिल्‍स में अपने दिनों को याद करते हुए #ThrowbackThursday के साथ अपनी एक पुरानी तस्‍वीर इंस्‍टाग्राम पर साझा की है।

82 साल के रतन टाटा की ये तस्वीर तब की है जब वो 25 साल के थे। रतन टाटा की इस पुरानी तस्वीर को लोग खूब पसंद कर रहे हैं। आइए जानते हैं रतन टाटा की पर्सनल लाइफ के बारे में..

एक बार नहीं 4 बार हुई थी रतन टाटा को मोहब्बत, जानिये उनकी लव-लाइफ के दिलचस्प किस्सेटाटा ग्रुप के चेयरमैन रतन टाटा (Image Source: Social media)
82 वर्षीय रतन टाटा ने लॉस एंजिल्‍स में अपने दिनों को याद करते हुए #ThrowbackThursday के साथ अपनी एक पुरानी तस्‍वीर इंस्‍टाग्राम पर साझा की है। कैप्शन में उन्होंने समझाया कि दरअसल, #ThrowbackThursday या #TBT एक लोकप्रिय इंटरनेट ट्रेंड है और लोग इस हैशटैग का उपयोग करते हुए अपनी पुरानी तस्वीरों को सोशल मीडिया पर साझा करते आ रहे हैं।

रतन टाटा की लाइफ

एक बार नहीं 4 बार हुई थी रतन टाटा को मोहब्बत, जानिये उनकी लव-लाइफ के दिलचस्प किस्सेटाटा ग्रुप के चेयरमैन रतन टाटा (Image Source: Social media)
दिग्गज बिनैसमैन रतन टाटा का जन्म 28 दिसंबर 1937 को सूरत में हुआ था। टाटा ग्रुप के पूर्व चेयरमैन ने अपनी एक अलग पहचान बनाई और बेहतर मुकाम भी हासिल किया। टाटा ग्रुप को नई ऊंचाइयों पर पहुंचाने के बाद उन्‍होंने जनवरी 2013 में रिटायरमेंट ले लिया था।

बिजनेस की दुनिया में तो रतन टाटा ने खूब नाम कमाया लेकिन प्यार के मामले में वह असफल ही साबित हुए। एक टीवी चैनल से इंटरव्यू में अविवाहित उद्योगपति रतन टाटा ने अपनी लव लाइफ के बारे में भी खुलासा किया था।

चार बार होते-होते रह गई शादी

एक बार नहीं 4 बार हुई थी रतन टाटा को मोहब्बत, जानिये उनकी लव-लाइफ के दिलचस्प किस्सेटाटा ग्रुप के चेयरमैन रतन टाटा (Image Source: Social media)
इंटरव्यू में रतन टाटा ने कहा था, ‘एक बार तो मेरी शादी बिल्कुल होते-होते रह गई। जब मैं अमेरिका में था, उन्हीं दिनों मेरी दादी ने मुझे अचानक फोन करके भारत आने को कहा। उसी दौरान भारत का चीन से युद्ध शुरू हो गया। इस तरह मैं वहीं अटक गया। बाद में उस लड़की की शादी हो गई। इतना ही नहीं ये भी पता चला कि उनके पति की मौत हो गई।’

रतन टाटा ने इसके साथ ही बताया कि कुछ साल पहले वह बॉम्बे हाउस ऑफिस में बैठे थे। तभी एक शख्स ने उन्हें पर्ची दी और कहा कि ये पेरिस की एक महिला ने दी है। उन्होंने कहा, ‘ये पर्ची उसी लड़की की थी। उनका अपना एक परिवार है, बच्चे भी हैं। दुनिया कितनी छोटी है। एक समय था तब हमारा कोई कॉनटैक्ट नहीं था पर आज हम दोस्त के तौर पर मिल लिया करते हैं।’

टाटा कहा कि उन्हें भी प्यार हुआ था लेकिन वह अपनी मोहब्बत को शादी के अंजाम तक नहीं पहुंचा सके। लेकिन दूर की सोचते हुए उन्हें लगता है कि अविवाहित रहना उनके लिए ठीक साबित हुआ, क्योंकि अगर उन्होंने शादी कर ली होती तो स्थिति काफी जटिल होती।

एक बार नहीं 4 बार हुई थी रतन टाटा को मोहब्बत, जानिये उनकी लव-लाइफ के दिलचस्प किस्सेटाटा ग्रुप के चेयरमैन रतन टाटा (Image Source: Social media)
उन्होंने कहा, अगर आप पूछें कि क्या मैंने कभी दिल लगाया था, तो आपको बता दूं कि मैं चार बार शादी करने के लिए गंभीर हुआ और हर बार किसी न किसी डर से मैं पीछे हट गया। अपने प्यार के दिनों के बारे में टाटा ने कहा, जब मैं अमेरिका में काम कर रहा था, तो शायद मैं प्यार को लेकर बेहद गंभीर हो गया था और हम केवल इसलिए शादी नहीं कर सके, क्योंकि मैं वापस भारत आ गया।

रतन टाटा की प्रेमिका भारत नहीं आना चाहती थीं। उसी वक्त भारत-चीन का युद्ध भी छिड़ा हुआ था। आखिर में उनकी प्रेमिका ने अमेरिका में ही किसी और से शादी कर ली।

कमाई का 65 फीसदी हिस्सा दान करते हैं

एक बार नहीं 4 बार हुई थी रतन टाटा को मोहब्बत, जानिये उनकी लव-लाइफ के दिलचस्प किस्सेटाटा ग्रुप के चेयरमैन रतन टाटा (Image Source: Social media)
28 दिसंबर 1937 को भारत के सबसे बड़े और ईमानदार उद्योगपतियों में से एक रतन टाटा का जन्म हुआ था। आपको बता दें रतन टाटा के पास बेशुमार दौलत है, लेकिन इसके बावजूद वो दुनिया के सबसे अमीर लोगों की लिस्ट में नहीं आते।

दरअसल रतन टाटा अपनी कमाई का 65 फीसदी हिस्सा दान कर देते हैं। उनकी कंपनी का जो भी प्रॉफिट होता है वो उसे समाज कल्याण के लिए दान कर देते हैं। ये पैसा उनके निजी फाइनेंशियल स्टेटमेंट में दर्ज नहीं होता है। इसीलिए रतन टाटा की निजी संपत्ति 100 करोड़ से ऊपर नहीं जाती है।

रतन टाटा का परिवार

एक बार नहीं 4 बार हुई थी रतन टाटा को मोहब्बत, जानिये उनकी लव-लाइफ के दिलचस्प किस्सेटाटा ग्रुप के चेयरमैन रतन टाटा (Image Source: Social media)
रतन टाटा पैदा तो समृद्ध परिवार में हुए थे लेकिन उनकी जिंदगी इतनी आसान नहीं रही। रतन टाटा जब 7 वर्ष के थे तो उनके पैरेंट्स अलग हो गए। उनका पालन-पोषण उनकी दादी ने किया। रतन टाटा को कारों का बहुत शौक है। उनकी निगरानी में ग्रुप ने लैंड रोवर, जैगुआर, रेंजरोवर एक्वायर कीं।

लखटकिया कार टाटा नैनो का गिफ्ट देने वाले भी रतन टाटा ही थे। रतन टाटा को विमान उड़ाने और पियानो बजाने का भी शौक है। अपने रिटायरमेंट के बाद टाटा ने कहा था कि अब मैं बाकी जीवन अपने शौक पूरे करना चाहता हूं। अब मैं पियानो बजाऊंगा और विमान उड़ाने के अपने शौक को पूरा करूंगा।

मजदूरों के साथ काम किया

एक बार नहीं 4 बार हुई थी रतन टाटा को मोहब्बत, जानिये उनकी लव-लाइफ के दिलचस्प किस्सेटाटा ग्रुप के चेयरमैन रतन टाटा (Image Source: Social media)
रतन टाटा ने जब अपनी कंपनी से करियर की शुरुआत की तो वो चाहते तो अच्छी पोस्ट पर आ सकते थे, लेकिन फिर भी उन्होंने फैक्ट्री मजदूरों के साथ काम शुरू किया। कहते हैं कि वो इसके जरिए जानना चाहते थे कि आखिर मजदूरों की जिंदगी क्या है और उनके परिवार को इस बिजनेस को खड़ा करने में कितनी मेहनत लगी।

कुत्ते से प्यार

एक बार नहीं 4 बार हुई थी रतन टाटा को मोहब्बत, जानिये उनकी लव-लाइफ के दिलचस्प किस्सेटाटा ग्रुप के चेयरमैन रतन टाटा (Image Source: Social media)
रतन टाटा कुत्ता पालने के भी शौकीन हैं। लिहाजा वह कुत्तों के लिए हॉस्पिटल बनवा रहे हैं। उन्होंने कहा, ‘मेरे घर पर दो जर्मन शेफर्ड हैं। हम नवी मुंबई में कुत्तों के लिए अस्पताल बनवा रहे हैं। कोलाबा के यूएस क्लब में 20 से ज्यादा कुत्तों को मैं खुद खिलाता था। ये सिलसिला तब तक चलता रहा, जब एक दिन मुझे पता चला कि उन्हें जहर देकर मार दिया गया है। उसके बाद से आज तक मैंने उस क्लब में कदम तक नहीं रखा है।’

पद्म भूषण और पद्म विभूषण से सम्मानित है टाटा

भारत सरकार ने रतन टाटा को पद्म भूषण (2000) और पद्म विभूषण (2008) द्वारा सम्मानित किया। ये सम्मान देश के तीसरे और दूसरे सर्वोच्च नागरिक सम्मान हैं।

[ डि‍सक्‍लेमर: यह न्‍यूज वेबसाइट से म‍िली जानकार‍ियों के आधार पर बनाई गई है. Lok Mantra अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है. ]

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Don`t copy text!