ट्री मैन के नाम से मशहूर पुलिसकर्मी बैंक से 17 लाख लोन लेकर लगाए 185 गांवों में पेड़

हम आपसे चर्चा करने जा रहे हैं. एक ऐसे पुलिसकर्मी के बारे में जिन्होंने अपने अनोखे काम से उनका नाम चर्चा मे है और ऐसे लोग बहुत कम देखने को मिलते हैं जो खुद से ज्यादा सबके लिए सोचे हम बात कर रहे हैं ऐसे पुलिसकर्मी जिन्होंने अपने एक बहुत ही अच्छे कार्य के कारण खास पहचान बना ली है.

यूं तो पुलिसकर्मी ही जनता की सुरक्षा और सेवा के लिए ही दिन रात होते हैं और वह अपने काम को पूरी लगन और मेहनत से करते हैं. अब ऐसा मामला सामने आया है जो लोगों की सेवा करने के अलावा चंडीगढ़ के पुलिस कांस्टेबल ऐसे हैं जो कि पर्यावरण सुरक्षा में अपने आप को समर्पित कर रहे हैं.

जिनका नाम देवेंद्र सुरा है जो पिछले 10 वर्षों से अपने इलाके के कई क्षेत्रों में पेड़ लगाने का काम कर रहे हैं अब तक उन्होंने बहुत से पेड़ लगाए हैं.इलाके को हरियाली से भर दिया है. कॉन्स्टेबल देवेंद्र सुरा ने वर्ष 2011 में चंडीगढ़ में कांस्टेबल के पद पर नौकरी पर तैनात हुए थे.मूल रूप से हरियाणा के सोनीपत जिले के रहने वाले हैं.

चंडीगढ़ में अपनी ड्यूटी ज्वाइन करने पहुंचे तो उन्होंने वहां पर बहुत सारे हरियाली देखेी सोचा कि हमारे हरियाणा के गांव में इतनी हरियाली नहीं हैं. वहीं से उन्होंने यह सोचा कि क्यों ना अपने गांव को फिर से पेड़ लगाकर हरा-भरा बनाया जाए. इसके बाद देवेंदर सुरा ने सबसे पहले अपने गांव सोनीपत से पेड़ लगाने की शुरुआत की धीरे-धीरे यह उनकी पहल आगे बढ़ती गई एक गांव से दूसरे गांव में पेड़ लगाते रहे और उन्होंने अपने इस काम को आगे से आगे बढ़ाया आज तक लगभग 185 गांवों में देवेंद्र सुरा पेड़ लगा चुके हैं.

उनके दिल मे पर्यावरण प्रेम को देखकर इलाके के लोगों ने ट्री मैन के नाम से बुलाने लग गए हैं. देवेंद्र सुरा ने पैसों की कमी के चलते अलग-अलग बैंकों से 17 लाख रुपए लोन भी लिया ताकि अधिक पेड़ लगाए जा सके. इस पूरी राशि को पेड़ लगाने में खर्च कर दिया.

 

उनके द्वारा किए जा रहे पर्यावरण सुरक्षा के काम पर बात करते हुए देवेंद्र ने बताया कि यह अच्छी बात है कि वह पेड़ लगा रहे हैं. लेकिन अगर वह पीपल,अमलतास,बरगद की भारती प्रजातियां लगाते हैं तो उससे हमारे पर्यावरण को ज्यादा फायदा होगा. इसके पेड़ ज्यादा ऑक्सीजन छोड़ते हैं. वह खुद भी ऐसे ही पेड़ लगाते हैं. कांस्टेबल देवेंद्र सुरा काम कर रहे हैं और लोगों को भी पर्यावरण के प्रति जागरूक करते रहते हैं. गांव के लोगों को भी इस काम में हाथ बंटाने के लिए प्रेरित कर रहे हैं.

[ डि‍सक्‍लेमर: यह न्‍यूज वेबसाइट से म‍िली जानकार‍ियों के आधार पर बनाई गई है. Lok Mantra अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है. ]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Don`t copy text!