एनआईए ने झारखंड, बिहार और पश्चिम बंगाल में की छापेमारी

राष्ट्रीय जांच एजेंसी ने बुधवार को झारखंड, बिहार और पश्चिम बंगाल में कई स्थानों पर छापेमारी की है। यह छापेमारी सरायकेला खरसावां जिले में भाकपा माओवादियों के पांच पुलिसकर्मियों की हत्या और हथियार लूटने के मामले में की गई है।

एनआईए के आधिकारिक सूत्रों ने बुधवार को बताया कि एनआईए ने सरायकेला- खरसावां जिले में चार स्थानों और झारखंड के रांची जिले में एक स्थान, बिहार के मुंगेर जिले में एक स्थान और पश्चिम बंगाल के पुरुलिया जिले में एक स्थान पर संदिग्धों के परिसरों की तलाशी ली गयी है।

छापेमारी के दौरान डिजिटल उपकरण और विभिन्न आपत्तिजनक दस्तावेज बरामद किए गए है। जानकारी के अनुसार अब तक की जांच के दौरान यह सामने आया कि संदिग्ध व्यक्ति भाकपा , एक आतंकवादी संगठन के सदस्य हैं, और भाकपा के ओवर ग्राउंड वर्कर के रूप में काम कर रहे थे।

उन पर भाकपा के सशस्त्र कैडरों को हथियार, गोला-बारूद, विस्फोटक सामग्री और अन्य रसद सहायता प्रदान करने में शामिल होने का संदेह है। जांच के दौरान यह भी पता चला कि वे भाकपा के सशस्त्र कैडरों द्वारा तत्काल अपराध को अंजाम देने के लिए रची गई आपराधिक साजिश का हिस्सा था।

मामले में आगे की जांच जारी है।

उल्लेखनीय है कि 14 जून 2019 को सरायकेला खरसावां जिले के तीरूलडीह के कुकुरूहाट बाजार में भाकपा माओवादियों ने पेट्रोलिंग करने निकली पुलिस टीम पर हमला कर पांच पुलिसकर्मियों को मौत के घाट उतार दिया था।

वहीं हत्या के बाद दो पिस्टल, 70 जिंदा कारतूस, तीन इंसास राइफल और उसकी 550 राउंड कारतूस, 10 मैगजीन, मोबाइल फोन, पुलिसकर्मियों के बेलेट माओवादियों ने लूट लिए थे। घटना को अंजाम देने के बाद भागने के क्रम में पुलिस वाहन को भी आग के हवाले कर दिया गया था।

वायरलेस के जरिए थाने को सूचना न दी जा सके, इसके लिए वायरलेस भी माओवादियों ने लूट लिया था। इस मामले में तिरुलडीह थाने से एनआईए ने 9 दिसंबर 2020 टेकओवर किया था ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Don`t copy text!