‘खिलौने की तरह आया था, खिलौने की तरह ही चला गया’, मां-बाप ने दूल्हे की तरह विदा किया शहीद बेटा

‘खिलौने की तरह आया था, खिलौने की तरह ही चला गया’, मां-बाप ने दूल्हे की तरह विदा किया शहीद बेटा

अरुणाचल प्रदेश के कामेंग सेक्टर में हिमस्खलन की चपेट में आने के बाद शहीद हुए भारतीय सेना के जवान अंकेश भारद्वाज का बीते रविवार को हिमाचल प्रदेश में पूरे राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया. 22 वर्षीय अंकेश बिलासपुर जिले के सेउ गांव के रहने वाला थे. उनका दाह संस्कार गांव के पास ही किया गया.

अंकेश का शव जैसे ही उनके गांव पहुंचा, ग्रामीणों ने अंकेश भारद्वाज अमर रहे के नारे लगाए. वहीं शहीद की मां कश्मीर देवी अपने बेटे के पार्थिव देह को देखकर बेसुध हो गईं. सेना के जवानों ने शहीद की फोटो मां को दी तो उन्होंने इसे सीने से लगाकर अपने बेटे का माथा चूमा. रोते हुए उन्होंने यह कहते हुए अपने बेटे को अंतिम विदाई दी कि तू खिलौने की तरह आया था और खिलौने की तरह ही चला गया.

इस नजारे को देखकर मौके पर मौजूद हर किसी की आंख नम हो गई. कोई भी अपने आंसू नहीं रोक पाया. शहीद के पिता खुद बीएसएफ से सेवानिवृत्त हैं. अंकेश के शव को देखकर वो गमगीन थे. उनका सपना था कि एक दिन उनके बेटे की शादी हो, लेकिन किस्मत को कुछ और ही मंजूर था.

प्रतीकात्मक रूप से अपनी इच्छा को पूरा करने के लिए, माता-पिता ने अंकेश को दूल्हे के रूप में तैयार किया और अपने बेटे की अंतिम यात्रा के लिए एक बैंड पार्टी की भी व्यवस्था की. अंकेश के घर को भी ‘शादी समारोह’ से मिलता जुलता तरीके से सजाया गया था. घर में अंकेश के सम्मान में एक तिरंगा भी लगाया गया.

अरुणाचल प्रदेश के कामेंग सेक्टर के ऊंचाई वाले इलाके में हिमस्खलन की चपेट में आए सात सैन्यकर्मियों को श्रद्धांजलि देने के लिए शनिवार को असम के तेजपुर वायुसेना स्टेशन पर पुष्पांजलि समारोह आयोजित किया गया. इसके बाद ही शवों को अखनूर, कठुआ, धारकलां, खुर, बाजीनाथ, घमारवीन और बटाला भेजा गया था.

सभी सात शहीद एक गश्ती दल का हिस्सा थे, जो 6 फरवरी, 2022 को अरुणाचल प्रदेश के कामेंग सेक्टर के उच्च ऊंचाई वाले क्षेत्र में हिमस्खलन की चपेट में आ गया था. शहीदों के बचाव और खोज के लिए सेना की विशेष टीमों को भेजा गया था मगर उन्हें सफलता नहीं मिली. हजारों फीट की ऊंचाई पर सैनिकों के शव बरामद किए.

शहीद अंकेश इन्हीं में से एक थे.

[ डि‍सक्‍लेमर: यह न्‍यूज वेबसाइट से म‍िली जानकार‍ियों के आधार पर बनाई गई है. Lok Mantra अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है. ]

Dhara Patel

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Don`t copy text!