पिता ने 2 साल के बेटे को बर्थडे गिफ्ट में दिया ‘चांद का टुकड़ा’, बच्चा बना चांद पर जमीन का मालिक

लोग अपने बच्चों का जन्मदिन बहुत ही खास तरीके से मनाते हैं. ऐसे में लोग बच्चों को अपनी हैसियत के मुताबिक महंगे महंगे गिफ्ट देते हैं. मध्य प्रदेश के सतना के रहने वाले एक पिता ने भी अपने 2 साल के बेटे को गिफ्ट दिया है. लेकिन ये गिफ्ट अन्य किसी भी उपहार से ज्यादा अनोखा है.

बेटे के लिए चांद पर खरीद ली जमीन

दरअसल, इस शख्स ने अपने दो साल के बेटे को जन्मदिन पर जमीन का टुकड़ा गिफ्ट किया है. अब आप सोचेंगे कि जमीन का टुकड़ा गिफ्ट करना कौन सी अनोखी बात हो गई लेकिन ऐसा सोचने से पहले जान लीजिए कि इस शख्स ने अपने बेटे को पृथ्वी के जमीन का टुकड़ा नहीं बल्कि चांद पर जमीन का टुकड़ा खरीद कर गिफ्ट किया है.

अमेरिका की इस कंपनी से खरीदी जमीन

अपने बेटे को ऐसा अनोखा गिफ्ट देने वाले शख्स हैं सतना के भरहुतनगर में रहने वाले अभिलाष मिश्रा. अभिलाष बेंगलुरु में एक कंपनी में रीजनल मैनेजर की पोस्ट पर काम करते हैं.

एक दिन उन्हें ऑफिस में बातों बातों में मालूम पड़ा कि लोग चांद पर जमीन खरीद रहे हैं. ऐसे में उन्होंने भी चांद पर जमीन खरीदने का मन बना लिया. इस बारे में उन्होंने इंटरनेट पर सर्च किया और उन्हें पता चला कि अमेरिका में लूना सोसाइटी इंटरनेशनल नाम से एक कंपनी है जो एक चांद पर जमीन बेचने का काम करती है.

अमेरिका ये फर्म है दावा करती है कि वे चांद पर जमीन बेचते हैं. जब अभिलाष ने इस फर्म से ईमेल के जरिए संपर्क किया तो उन्हें पता चला कि चांद पर 12 साइट हैं जहां पर अपनी मर्जी के जमीन खरीद सकते हैं. फर्म की वेबसाइट पर चांद की 12 लोकेशन दिखाई गई हैं जिनके अलग-अलग एकड़ के हिसाब से भाव हैं.

बेटे को गिफ्ट किया चांद का टुकड़ा

ऐसे में अभिलाष ने लूनर अल्पस में जमीन का एक टुकड़ा खरीद लिए. उन्होंने चांद पर इस जमीन के टुकड़े को अपने 2 साल के बेटे अव्यान मिश्रा के नाम पर खरीद लिया. उन्होंने चांद पर एक एकड़ जमीन खरीद ली है. इसके लिए उन्होंने बकायदा उसकी कीमत अदा की और इंटरनेशनल लूनर लैंड्स रजिस्ट्री नामक इस फर्म ने चांद पर जमीन के टुकड़े की रजिस्ट्री कर दी. इसके साथ ही अभिलाष ऐसे शख्स बन गए जिन्होंने अपने बेटे के जन्मदिन पर उसे ‘चांद का टुकड़ा’ गिफ्ट किया.

जन्मदिन के दिन ही मिला मालिकाना हक

अभिलाष ने चांद पर जमीन खरीदने के बारे में अपनी पत्नी और माता पिता को कुछ नहीं बताया था. वह अपने घर वालों को सरप्राइज देना चाहते थे. चांद पर खरीदे गए जमीन के टुकड़े का मालिकाना हक उन्हें बेटे के जन्मदिन वाले दिन यानी कि 15 दिसंबर को मिला.

अभिलाष के इस फैसले से उनकी पत्नी श्वेता बहुत खुश हैं. अभिलाष के मुताबिक उन्होंने अपने चांद से बेटे को चांद पर जमीन दी है. उनके लिए ये गर्व करने वाली बात है. अव्यान के जन्मदिन के दिन 15 दिसम्बर से वह चांद पर सिटिजनशिप पा गया है.

[ डि‍सक्‍लेमर: यह न्‍यूज वेबसाइट से म‍िली जानकार‍ियों के आधार पर बनाई गई है. Lok Mantra अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है. ]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Don`t copy text!