मजदूर का बेटा, बचपन गरीबी में बीता, ठेले पर चाय बेची, अपनी मेहनत से बना IAS

कुछ कहानियां दिल को छू लेने वाली होती हैं. आईएस हिमांशु गुप्ता की कहानी कुछ ऐसी ही है. आमतौर पर लोग गरीबी के आगे घुटने टेक देते हैं. मगर हिमांशु ने अपनी किस्मत खुद लिखी और समाज के लिए एक मिसाल बने. हिमांशु का जन्म उत्तराखंड के एक बेहद गरीब परिवार में हुआ. पिता घर चलाने के मज़दूरी और चाय का ठेला लगाने जैसे काम करते थे. जैसे-तैसे उनका घर चलता था.

 

View this post on Instagram

 

A post shared by Himanshu Gupta (@himanshugupta_ias)

पिता के लिए हिमांशु को स्कूल भेजना सहज नहीं था, मगर उन्होंने सुनिश्चित किया कि वो अपने बेटे को स्कूल जरूर भेजेंगे. हिमांशु ने भी पिता को निराश नहीं किया और खूब मन लगाकर पढ़ाई की. हिमांशु रोजाना 70 किलोमीटर की दूरी तय कर स्कूल जाते और लौटकर चाय बेचने में पिता की मदद करते. वक्त के साथ-साथ हिमांशु बड़े हुए और उन्होंने अपनी पढ़ाई का खर्च उठाना शुरू किया.

 

उन्होंने बच्चों को ट्यूशन दिए, ब्लॉग लिखे और आगे की पढ़ाई के लिए पैसे एकत्र किए. जल्दी ही उनकी मेहनत रंग लाई. हिमांशु अपने परिवार के पहले ग्रेजुएट बने और बाद में यूनिवर्सिटी के टॉप भी. ग्रेजुएशन के बाद हिमांशु ने खुद को यूपीएससी के लिए तैयार करना शुरू किया. उनके पास विदेश में पीएचडी करने के मौका था. हालांकि उन्होंने यूपीएससी को चुना.

 

View this post on Instagram

 

A post shared by Himanshu Gupta (@himanshugupta_ias)

शुरू के प्रयासों में हिमांशु का आईएएस अधिकारी बनने का सपना पूरा नहीं हुआ था मगर उन्होंने हार नहीं मानी. अंतत: 2020 में अपने तीसरे प्रयास में वो आईएएस के लिए चयनित हुए.

[ डि‍सक्‍लेमर: यह न्‍यूज वेबसाइट से म‍िली जानकार‍ियों के आधार पर बनाई गई है. Lok Mantra अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है. ]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Don`t copy text!