माँ चलाती थीं पेट्रोल पंप और सिर्फ 22 साल की उम्र में बेटी UPSC क्रैक कर बनी IAS अधिकारी

माँ चलाती थीं पेट्रोल पंप और सिर्फ 22 साल की उम्र में बेटी UPSC क्रैक कर बनी IAS अधिकारी

UPSC वो परीक्षा जिसमें भाग ले कर पास करने पर IAS बनने का सपना लाखों उम्मीदवार देखते हैं। युवाओं में इस परीक्षा को लेकर एक अलग ही सनक देखने को मिलती है। भारत देश की सबसे कठिन परीक्षा की तैयारी में उम्मीदवार सालों की कठिन परिश्रम और दृढ़शक्ति से परीक्षा को पास कर IAS अधिकारी बनते हैं। आज हम एक ऐसी ही IAS अफसर के बारे में बताने जा रहे है, जिन्होंने केवल 22 वर्ष की आयु में ही IAS बन सफलता का डंका बजा दिया।

हम बात कर रहे है स्वाति मीणा के बारें में जो कि राजस्थान के अजमेर की निवासी है। स्वाति मीणा शिक्षा के क्षेत्र में शुरू से ही सफल छात्रा रही हैं।‌ माँ का एक चाह और सपना था की बेटी डॉक्टर बने, स्वाति मीणा भी डॉक्टर बनना चाहती थी। जब 8वीं कक्षा में पढ़ रही थी, तो स्वाति मीणा की मुलाकात माँ की एक कजन अधिकारी से हुई। तब से उनकी इच्छा अफसर बनने की हुई। लिहाजा इसके 12वीं के पश्चात सिविल सर्विसेज की तैयारी शुरू कर दी, इधर परिवार ने भी इस फैसले का स्वीकार करते हुए स्वाति मीणा को पूरा सहयोग किया।

स्वाति मीणा की माता जी एक पेट्रोल पंप चलाती थी। ऐसे समय में पिता भी मदद करते रहे, समय-समय पर तैयारी करवाई और खुद साक्षात्कार भी लिया। स्वाति मीणा के अच्छे शिक्षा के लिए पूरी मदद की। UPSC का परीक्षा दिया। वर्ष 2007 के निकले परिणाम में स्वाति मीणा ने 260वीं स्थान प्राप्त कर IAS अफसर बनने का अवसर हासिल किया। अपने इस बैच की सबसे कम आयु की IAS स्वाति मीणा ने 22 वर्ष की आयु में यह जीत पाई। फिर उन्हें मध्यप्रदेश कैडर आवंटित हुआ।

[ डि‍सक्‍लेमर: यह न्‍यूज वेबसाइट से म‍िली जानकार‍ियों के आधार पर बनाई गई है. Lok Mantra अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है. ]

Dhara Patel

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Don`t copy text!