इस शख्स ने जुगाड़ तकनीक से बनाई प्याज बोने की मशीन, लागत आती है बहुत कम

भारत में ऐसे बहुत सारे कार्य जुगाड़ तकनीक से कर लिया जाता है। अक्सर हम देखते हैं कि लोग जुगाड़ के जरिए सस्ती और सुविधाजनक चीजों का निर्माण करते हैं।

जुगाड़ विकसित करने में एक नाम श्री जगदीश पंवार  का भी जुड़ गया है। दरअसल इन्होंने प्याज के बीज बोने की सस्ती और सुविधाजनक मशीन का निर्माण किया है। ग्राम जगोटी तहसील महिदपुर जिला उज्जैन निवासी श्री जगदीश पंवार ने यह कारनामा अपने गांव में हीं किया है।

15 दिन में तैयार किया यह मशीन

गत दिनों कृषक जगत के पोर्टल पर प्रसारित इस मशीन के बारे में जानने के बाद कई किसानों ने इसमें रूचि ली और इससे जूरी जानकारी लेने लगे। जगदीश पंवार के अनुसार प्याज बीज बोने की मशीन उन्होंने केवल 15 दिन में तैयार किया है। इसके लिए उन्होंने उन्हेल और उज्जैन से ढाई हज़ार रुपए कि खरीदारी की है।

इस मशीन से बोने में लागत कम आती है

श्री पंवार के अनुसार प्याज़ के रोपे तैयार कर उन्हें स्थानांतरित करने में किसान की लागत ज़्यादा आती है तथा पौधों की वृद्धि भी रुक जाती है। इस मशीन के प्रयोग से सीधे प्याज़ बीज बोने से लागत में तो कमी आएगी। साथ ही फसल वृद्धि भी अच्छी होगी, क्योंकि प्याज़ का बीज हल्का होता है, जिसे गहराई में नहीं डालना पड़ता।

अधिक पानी की जरूरत नहीं

श्री पंवार बताते है कि इस मशीन से प्याज़ बीज की दो प्रकार से बुवाई कर सकते हैं। एक तो गेहूं-चने में जैसे सरी बनाकर करते हैं वैसे तथा दूसरा बेड बनाकर। दो फीट का बेड बनाकर बीच में प्याज़ का पौधा और दोनों तरफ नाली होने से पौधे को नमी मिलती रहेगी। हालांकि प्याज़ को ज़्यादा पानी की ज़रूरत नहीं होती, वह कम पानी में भी अधिक उत्पाद देता है।

[ डि‍सक्‍लेमर: यह न्‍यूज वेबसाइट से म‍िली जानकार‍ियों के आधार पर बनाई गई है. Lok Mantra अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है. ]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Don`t copy text!