पिता टेम्पो ड्राइवर बेटा बना करोड़पति, जानिये कैसे?

पिता टेम्पो ड्राइवर बेटा बना करोड़पति, जानिये कैसे?

IPL 2021 ऑक्शन में राजस्थान रॉयल्स ने 8 खिलाड़ी खरीदे हैं। इस बार टीम ने तीन विदेशी खिलाड़ियों पर दांव लगाया है। बता दे राजस्थान की टीम में दक्षिण अफ्रीका के क्रिस मॉरिस के लिए 16.25 करोड़ की राशि खर्च की गई है। वही टीम ने सौराष्ट्र के तेज गेंदबाज चेतन सकारिया को 1.20 करोड रुपए में अपनी टीम में शामिल किया गया है। सकारिया के क्रिकेटर बनने की कहानी बेहद दिलचस्प है। उन्होंन अपनी कड़ी मेहनत और जज्बें के दम पर यह मुकाम हासिल किया है।

चेतन के पिता है टेंपो ड्राइवर

बता दे चेतन सकारिया के पिता एक टेंपो ड्राइवर का काम करते हैं। चेतन सकारिया के पिता हमेशा चाहते थे कि उनका बेटा जिंदगी में शिक्षा के क्षेत्र में नाम कमाए। उन्होंने बेटे के क्रिकेट की प्रतिभा को कभी भी सराहना नहीं दी। वह कभी नहीं चाहते थे कि उनका बेटा एक क्रिकेटर बने, लेकिन परिवार के ही दूसरे सदस्यों द्वारा समझाए जाने पर उन्होंने उसे क्रिकेट खेलने की इजाजत दे दी।

घर में नहीं था टीवी

एक दौर वो भी था जब चेतन के घर में टीवी नहीं था। क्रिकेट मैच देखने के लिए वह पड़ोसियों के घर जाया करते थे। कई बार तो इलेक्ट्रॉनिक शोरूम के बाहर हो खड़े होकर वह क्रिकेट मैच देखते थे और आज अब राजस्थान रॉयल्स ने उन्हें 1.20 करोड़ में बतौर गेंदबाज शामिल किया है। उनकी जिंदगी में आए इस मोड़ ने उन्हें मालामाल कर दिया है। एक टेंपो ड्राइवर के बेटे चेतन करोड़पति बन गए हैं।

आईपीएल 2020 का भी रहे चुके हैं हिस्सा

बता दे चेतन सकारिया के पिता कांजीभाई 2 साल पहले तक टेंपो चलाने का काम करते थे। सौराष्ट्र के नियमित गेंदबाज बनने के बाद उन्होंने अपने पिता से यह काम छोड़ने का अनुरोध किया। मालूम हो कि चेतन सकारिया आईपीएल 2020 में रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु के साथ यूएई नेट बॉलर के तौर पर भी जा चुके हैं। हाल ही में मिली कामयाबी को लेकर चेतन सकारिया का कहना है कि मुझे उम्मीद नहीं थी कि मैं वहां रहूंगा।

जब मैं यूएई में आईपीएल के दौरान आरसीबी के लिए नेट गेंदबाज के रूप में गया था तो आरसीबी के माइक हैसन और साइमन कैटिच ने मुझे बताया था कि मैं किसी भी आईपीएल टीम का हिस्सा बन सकता हूं। आरसीबी ने मेरे लिए कोशिश नहीं की, लेकिन किसी भी टीम के लिए चुना जाना यह मेरे लिए बहुत बड़ी खुशी की बात है।

भाई की मौ’त ने दिया खालीपन

वही चेतन सकारिया को एक बात का बेहद अफसोस है और उनकी जिंदगी में यदि कभी ख’त्म नहीं होगा। दरअसल चेतन सकारिया ने पिछले महीने अपने छोटे भाई को खो दिया। चेतन सकारिया अपने छोटे भाई के बेहद करीब थे। हाल ही में टीम में सेलेक्ट होने के बाद उन्होंने कहा कि 1.20 करोड़ भले ही उनके जीवन को बदल सकते हैं, लेकिन उनकी जिंदगी के उस खालीपन को नहीं भर सकते, जो उनके भाई के च’ले जा’ने से आया है।

भाई की अनुपस्थिति ‘एक बड़ा शून्य

उन्होंने कहा कि मेरे छोटे भाई ने जनवरी में आ’त्म ह’त्या कर ली। मैं उस दौरान घर पर नहीं था। मैं सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी में हिस्सा ले रहा था और मुझे इस बारे में तब नहीं पता चला। मेरे परिवार ने मेरे मैच के दौरान मुझे कुछ भी नहीं बताया और जब मैं घर लौटा तो वह गु’ज’र चुका था। मेरे परिवार ने मेरे साथ इस खबर को साझा नहीं किया। मैंने राहुल के बारे में पूछा तो उन्होंने कहा कि वह बाहर गया है। उसकी अनुपस्थिति मेरे लिए एक बड़ा शून्य है, जिसे कभी कोई नहीं भर सकता। आज अगर वह मेरे साथ होता तो मुझसे ज्यादा खुश होता।

[ डि‍सक्‍लेमर: यह न्‍यूज वेबसाइट से म‍िली जानकार‍ियों के आधार पर बनाई गई है. Lok Mantra अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है. ]

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Don`t copy text!