श्रीलंका को 73 रनों पर ढेरकर भारत ने दर्ज की वनडे इतिहास की सबसे बड़ी जीत, सीरीज में 3-0 से किया क्लीन स्वीप

विराट कोहली (166 नाबाद), शुभमन गिल (116) और मोहम्मद सिराज (4/32) के शानदार प्रदर्शन की वजह से भारत ने तीसरे और अंतिम मैच में रविवार को तिरुवनंतपुरम के ग्रीनफील्ड इंटरनेशनल स्टेडियम में श्रीलंका को 317 रनों से हराकर सीरीज में 3-0 से क्लीन स्वीप हासिल कर ली.

रनों के मामले में किसी भी टीम की वनडे इतिहास की यह अब तक की सबसे बड़ी जीत है. वनडे क्रिकेट में इससे पहले रनों के लिहाज से सबसे बड़ी जीत का रिकॉर्ड न्यूजीलैंड के नाम था जिसने 2008 में आयरलैंड को 290 रन से हराया था.

भारतीय टीम के 390 रनों के जवाब में श्रीलंका की पूरी टीम 22 ओवर में 73 रनों पर ही ढेर हो गई. उनकी ओर से नुवानिडु फर्नांडो (19) और कसुन रजिथा (13) ने सबसे ज्यादा रन बनाए. भारत की ओर से मोहम्मद सिराज ने चार, मोहम्मद शमी ने दो और कुलदीप यादव ने दो विकेट चटकाए.

विराट को प्लेयर ऑफ द मैच और प्लेयर ऑफ द सीरीज से नवाजा गया. भारत की श्रीलंका के खिलाफ यह 96वीं जीत है जो किसी एक टीम के खिलाफ दूसरी टीम की सर्वाधिक जीत का विश्व रिकॉर्ड है.

लक्ष्य का पीछा करने उतरी श्रीलंकाई टीम का भारतीय गेंदबाजों ने सूपड़ा साफ कर दिया, क्योंकि पावरप्ले में 39 रनों पर आधी टीम पवेलियन लौट गई. इस दौरान, अविष्का फर्नांडो (1), कुसल मेंडिस (4), चरित असलंका (1), नुवानिडू फर्नांडो (19) और वानिन्दु हसरंगा (1) जल्द ही आउट हो गए. मेहमान टीम बीच के ओवर में भी अपने विकेट गंवाती रही.

12वां ओवर डालने आए सिराज ने चमिका करुणारत्ने (1) को रन आउट कर दिया. इसके बाद, कुलदीप ने कप्तान दासुन शनाका (11) को अपना शिकार बनाया. 15 ओवर में श्रीलंका ने 50 रन पर अपने सात विकेट खो दिए थे. शमी ने डुनिथ वेल्लेज (3) को आउट कर अपना दूसरा विकेट हासिल किया.

22वें ओवर में कुलदीप ने लाहिरू कुमारा (9) को बोल्ड कर श्रीलंका को 73 रनों पर नौवां झटका दिया, जिससे भारत ने यह मैच 317 रनों से अपने नाम कर लिया. रजिथा 13 रन बनाकर नाबाद रहे. वहीं, अशेन बंडारा चोट लगने के कारण बल्लेबाजी के लिए नहीं आ सके.

इससे पहले, कोहली की पारी की बदौलत भारत अंतिम 11 ओवर में 126 रन जुटाने में सफल रहा. रोहित शर्मा (42) ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया और गिल के साथ पहले विकेट के लिए 95 रन जोड़कर टीम को अच्छा मंच मुहैया कराया।

रोहित हालांकि क्रीज पर जमने के बाद चमिका करूणारत्ने की गेंद को पुल करने की कोशिश में बाउंड्री पर अविष्का फर्नांडो को कैच दे बैठे। उन्होंने 49 गेंद की अपनी पारी में तीन छक्के और दो चौके मारे.

कोहली शुरुआत से ही अच्छी लय में दिखे. उन्होंने करूणारत्ने पर चौके से खाता खोला और फिर जेफ्रे वांडरसे पर लगातार दो चाके मारे. भारत के रनों का शतक 16वें ओवर में पूरा हुआ. गिल ने वांडरसे की गेंद पर एक रन के साथ 52 गेंद में अर्धशतक पूरा किया.

गिल और कोहली ने बीच के ओवरों में बिना किसी परेशानी के बल्लेबाजी की और आसानी से रन बटोरे। गिल ने कामचलाऊ स्पिनर नुवानिदु की लगातार गेंदों पर चौके और छक्के फिर एक रन के साथ 89 गेंद में दूसरा एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय शतक पूरा किया.

गिल ने वांडरसे के ओवर में तीन चौके मारे लेकिन रजिता की गेंद को आगे बढ़कर खेलने की कोशिश में बोल्ड हो गए. उन्होंने 97 गेंद का सामना करते हुए 14 चौके और दो छक्के मारे.

कोहली को इसके बाद अय्यर के रूप में उम्दा साझेदार मिला. कोहली करूणारत्ने पर चौके के साथ 63 रन पर पहुंचे और एकदिवसीय क्रिकेट में सर्वाधिक रन बनाने वालों की सूची में श्रीलंका के महेला जयवर्धने को पछाड़कर पांचवें स्थान पर पहुंच गए.

कोहली ने 43वें ओवर में करूणारत्ने पर चौके के साथ टीम का स्कोर 300 रन के पार पहुंचाया लेकिन चौका रोकने की कोशिश में बंडारा और वांडरसे आपस में टकराकर चोटिल हो गए.

कोहली ने अगली गेंद पर एक रन के साथ 85 गेंद में पिछले चार वनडे में अपना तीसरा शतक पूरा किया. कोहली ने शतक पूरा करने के बाद रजिता पर एक और करूणारत्ने पर लगातार दो छक्के मारे.

अय्यर इसके बाद लाहिरू कुमारा की गेंद पर स्थानापन्न खिलाड़ी धनंजय डिसिल्वा को कैच दे बैठे. कुमारा ने लोकेश राहुल (07) जबकि रजिता ने सूर्यकुमार यादव (04) को पवेलियन भेजा. कोहली ने कुमारा के अंतिम ओवर में दो छक्के और एक चौके के साथ 106 गेंद में 150 रन पूरे किए.

कोहली ने 110 गेंद में आठ छक्कों और 13 चौकों की मदद से नाबाद 166 रन की करियर की दूसरी सर्वश्रेष्ठ पारी खेलने के अलावा गिल (116) के साथ दूसरे विकेट के लिए 131 और श्रेयस अय्यर (38) के साथ तीसरे विकेट के लिए 108 रन की साझेदारी की जिससे भारत ने पांच विकेट पर 390 रन का स्कोर खड़ा किया.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Don`t copy text!