IIT से पढ़ाई के बाद एकता सिंह ने चुना UPSC का रास्ता, पहले ही प्रयास में बन गईं आईएएस अफसर

आज आपको यूपीएससी परीक्षा को पहले प्रयास में पास करने वाली एकता सिंह की कहानी बताएंगे, जो अन्य लोगों के लिए काफी प्रेरणादायक हैं. एकता ने अपनी इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने के बाद यूपीएससी परीक्षा की सटीक रणनीति बनाई और तैयारी शुरू कर दी. उन्होंने काफी तैयारी के बाद पहली बार 2016 में यूपीएससी की परीक्षा में हि’स्सा लिया और पहले ही प्रयास में उन्हें सफलता मिल गई. उन्हें इस परीक्षा में 101 रैंक मिली. वैसे तो एकता पढ़ाई में हमेशा से होशियार थी और उन्होंने इंटरमीडिएट के बाद जेईई का एग्जाम पास करने के बाद आईआईटी बीएचयू से अपनी ग्रेजुएशन की.

इंटरमीडिएट के बाद जेईई की परीक्षा पास की
 

इंटरमीडिएट में एकता ने काफी अच्छे अंक हासिल किए. इसके बाद उन्होंने जेईई की परीक्षा दी और अच्छी रैंक से पास कर ली. उन्होंने आईआईटी बीएचयू से इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल की. उनका सपना हमेशा से आईएएस अफसर बनने का था. इसलिए 2015 में अपनी ग्रेजुएशन कंप्लीट करने के बाद उन्होंने आईएएस की तैयारी शुरू कर दी. अच्छी रणनीति ब’नाकर उन्होंने तैयारी की और पहले ही प्रयास में सफलता भी प्रा’प्त कर ली. इस दौरान उन्होंने कोचिंग की सहा’यता ली.

कोचिंग को मानती हैं जरूरी

यूपीएससी परीक्षा पास करने वाले कई कैंडिडेट को कोचिंग जरूरी नहीं लगती, लेकिन एकता का मानना है कि कोचिंग यूपीएससी में सफलता प्राप्त में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है. वह कहते हैं अगर आप कोचिंग नहीं कर सकते तो कोचिंग के नोट्स आपको बाजार में मिल जाएंगे. आप उन नोट्स को पढ़ कर अपनी तैयारी कर सकते हैं. एकता का मानना है कि अगर आप यूपीएससी में सफलता प्राप्त करना चाहते हैं तो आपको सही मार्गदर्शन मिलना चाहिए. जब आप सही दिशा में मेहनत करेंगे तो आपको सफलता मिलेगी. उनका मानना है कि आप तैयारी के लिए इंटरनेट की सहा’यता भी ले सकते हैं. इंटरनेट पर यूपीएससी का काफी मटेरियल मौजूद है जो अच्छा है.

अन्य कैंडिडेट्स को एकता की सलाह

यूपीएससी की तैयारी करने वाले लोगों को एकता सिंह धैर्य से मेहनत करने की सलाह देती हैं. वे कहते हैं कि आप तैयारी के दौरान तनाव न लें वरना इसका तैयारी पर विप’री’त प्रभाव प’ड़’ता है. जहां भी जरूरत पड़े आपको अपने सीनियर्स की म’द’द लेनी चाहिए. अगर आप कोचिंग के लिए स’क्ष’म है तो आपको कोचिंग जरूर करनी चाहिए. वे कहती हैं कि अगर आप सही दिशा में मेहनत करेंगे तो सफलता जरूर मिलेगी. साथ ही केंद्रीय को अ सफलता से नि’रा’श नहीं होना चाहिए और अपनी कमियों को ढूं’ढ’क’र उन्हें सुधारना चाहिए.

[ डि‍सक्‍लेमर: यह न्‍यूज वेबसाइट से म‍िली जानकार‍ियों के आधार पर बनाई गई है. Lok Mantra अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है. ]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Don`t copy text!