टब में मछली पालन कैसे करें, जानिए शुरूआत से लेकर अंत तक मछली पालन के हर एक पहलू को

आजकल लोग खेती करने के साथ-साथ भिन्न भिन्न प्रकार के मवेशी पालन, मत्स्य पालन को अपनी कमाई का मध्यम बना रहे हैं। मत्स्य पालन भी फायदे का एक बहुत बड़ा स्रोत है। आज इस पेशकश में बात मत्स्य पालन की।वैसे तो मछली पालन को दो मध्यम से किया जा सकता है एक तो मछली को तालाब में पाल सकते हैं तो दूसरा आप उसे के में भी पाल सकते हैं। जिन लोगों के पास खुद का तालाब नहीं है वे टब की मदद से मछली का पालन कर सकते है एवम अच्छी आय का जरिया भी बना सकते हैं।

हम आपको बताएंगे कि टब में मछली कैसे पाली जा सकती है और उसके लिए किन-किन चीजों की जरूरत होती है। उसकी सारी विधि आपको बताएंगे जिसे जानने के बाद आप सरलता से मछली पालन कर सकते हैं एवम इसे आप एक बड़े व्यवसाय के स्वरूप में भी तैयार कर सकते हैं।

The Indian Stories से बात करते हुए नीरज जी द्वारा बताया गया कि टब में मछली पालन करने के हेतु सबसे पहले हमें एक टब बनाना होगा। उसे आप अपने ढंग से तैयार कर सकते हैं। ध्यान रहे की टब की कैपेसिटी कुछ भी हो सकती है। इस टब को आप सीमेंट के सहायता से भी तैयार कर सकते हैं या फिर कोई और तरीके से भी। सबसे पहले हमें जानना होगा की पानी को तैयार कैसे करें उसमे मछली जिंदा रह सकती है। तो दोस्तों पहली बार में हम इस टब में उसकी क्षमता के मुताबिक पानी दे देंगे। उसके बाद इसमें गुड़, नमक तथा प्रोवेटी डाला जाता है उससे इसमें बीज अच्छे से तैयार हो सके। गुड़, नमक डालने के पांच दिन बाद उसमे बीज डाला जाता है।

नीरज आगे बताते हैं कि उसके बाद मछलियों को हमेशा मतलब की चौबीस घंटे ऑक्सीजन की आवासक्त होती है। तो इसके हेतु आपको एक मोटर लगाना होगा और एक पतले पाइप की सहायता से पानी में डाल देना होगा। माचली पालने के हेतु सबसे अधिक जरूरी मोटर हीं होता है। इसलिए क्योंकि बिना ऑक्सीजन के मछली अधिक देर जीवित नहीं रह सकती। उसके हेतु हमें मोटर लगाना जरूरी है। दोस्तों, इस टब में आप किसी भी मछली को पाल सकते हैं। जब हम मछली को टब में दे देंगे उसके बाद स्वाभाविक है कि उन्हें भी चारे की आवश्कता होगी। तो आपको इसे हर अंतराल पर चारा भी देना होगा।

अब प्रसन्न ये है कि उसे मुनाफे कितने हो जाते होंगे। The Indian Stories के इस सवाल पर जबाब देते हुए नीरज ने बताया था कि 10,000 लीटर पानी की कैपेसिटी वाले टब में हमें मछली पालने में दस से बारह हजार खर्च होता है। इन्होंने यह भी कहा कि मछली को लगभग 4-5 माह इसमें रखते हैं उससे हर एक मछली लगभग आधे किलो से ऊपर का हो जाता है। फिर उसके बाद हमारे पास छोटे व्यापारी आते हैं एवम ले जाते हैं। इन्होंने जो खर्च बताया वो पूरे चार माह का खर्च था। फिर जब उनसे पूछा गया कि आप इससे कमा कितने लेते हो तो उन्होंने कहा की तीस से पेंटिस्ट हजार रुपए। यानी कि दस से बारह हजार खर्च होता है और तीस से पैंतीस हजार कमा लेते हैं।करीब बीस से पच्चीस हजार के उपर कमाई हो जाती हैं।

तो आप भी इसे एक व्यापार के तौर पर चालू कर सकते हैं। अगर सही ढंग से आपने तत्परता से मछली पालन करते हैं तो निश्चित तौर पर अच्छा खासा आय कमा सकते हैं।

[ डि‍सक्‍लेमर: यह न्‍यूज वेबसाइट से म‍िली जानकार‍ियों के आधार पर बनाई गई है. Lok Mantra अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है. ]

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Don`t copy text!