महिला पुलिसकर्मी ने जीता दिल, बुजुर्ग को 5KM कंधे पर बैठाकर पहुंचाया घर

गुजरात की एक मह‍िला पुल‍िसकर्मी ने मानवता की एक अनोखी म‍िसाल पेश की है. महिला पुलिसकर्मी ने रेगिस्तान की प्रचंड गर्मी में एक बुजर्ग महिला को 5KM अपने कंधे पर बैठाकर घर पहुंचाने का काम किया है. यह बुजुर्ग महिला गुजरात के कच्छ में एक मंदिर में मोरारीबापू की रामकथा सुनने आई थी. इस दौरान गर्मी की वजह से वह बेहोश हो गई थी.

मानवता की अनोखी मिशाल

इसके बाद मह‍िला पुल‍िसकर्मी ने मानवता की अनोखी मिशाल पेश करते हुए बुजुर्ग मह‍िला की मदद की और भीषण गर्मी में 5 क‍िलोमीटर तक पैदल महिला को अपने कंधों पर बैठाकर सकुशल घर पहुंचाया. मह‍िला पुलिसकर्मी की देशभर में जमकर तारीफ हो रही है. खुद राज्य के गृहमंत्री ने ट्वीट कर महिला पुलिसकर्मी के काम की जमकर सराहना की.

बता दें कि कच्छ के खादिर द्वीप पर स्थित भंजदा दादा के मंदिर में मोरारीबापू की रामकथा चल रही है. एक 86 साल की बुजुर्ग महिला रामकथा सुनने के लिए पहाड़ी पर चढ़ रही थी. इस दौरान वह गर्मी बर्दाश्त नहीं कर पाई और बेहोश होकर जमीन पर गिर गई. जैसे ही इस बात की जानकारी महिला कांस्टेबल वर्षाबेन परमार को लगी, वह तुरंत ही बुजुर्ग महिला के पास सहायता के लिए पहुंच गईं और महिला को अपने कंधे पर उठा लिया. इसके बाद भीषण गर्मी में 5 किमी पैदल चलकर मह‍िला को उनके घर पहुंचाया.

गृह मंत्री ने भी सराहना

गुजरात के गृह मंत्री हर्ष संघवी ने महिला पुलिसकर्मी की तारीफ करते हुए ट्वीट किया, ‘खाकी की मानवता. कच्छ के रापर में मोरारीबापू जी की कथा सुनने पैदल चलते जा रहे 86 वर्षीय बुजुर्ग को स्वास्थ्य परेशानी होने के कारणवश महिला पुलिस अधिकारी वर्षाबेन परमार ने उन्हें 5 किमी तक अपने कंधों पर बैठाकर गंतव्य स्थान तक पहुंचाकर सेवा का उत्कृष्ट उदाहरण पेश किया.’ मह‍िला पुल‍िसकर्मी की मदद के बाद बुजुर्ग महि‍ला ने उन्हें जमकर आशीर्वाद द‍िया.

[ डि‍सक्‍लेमर: यह न्‍यूज वेबसाइट से म‍िली जानकार‍ियों के आधार पर बनाई गई है. Lok Mantra अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है. ]

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Don`t copy text!