किसान के बेटे ने 6 लाख खर्च कर घर की छत पर रखवाया 33 साल पुराना ट्रैक्टर, किसानों को दिया सम्मान

किसान के बेटे ने 6 लाख खर्च कर घर की छत पर रखवाया 33 साल पुराना ट्रैक्टर, किसानों को दिया सम्मान

आपने घरों की छतों पर अजीबो गरीब पानी की टंकियां लगी जरूर देखी होंगी. कुछ लोग झोपड़ी के डिजाइन में टंकी बनवाते हैं तो कुछ किसी पक्षी के आकार में. ये सब लोगों का ध्यान आकर्षित करने के लिए किया जाता है. राजस्थान के एक किसान ने भी ऐसा ही कुछ अपने घर की छत पर किया है लेकिन ये कोई पानी की टंकी या किसी चीज का नकली डिजाइन नहीं बल्कि बिल्कुल असली ट्रैक्टर है.

छत पर रखवाया 33 साल पुराना ट्रैक्टर

जी हां राजस्थान के श्रीगंगानगर में एक किसान के बेटे ने अपने घर की छत पर असली ट्रैक्टर रखवाया है. किसान का बेटा विदेश में रहता है और उसने जो ट्रैक्टर अपने छत पर रखवाया है वह 33 साल पुराना है. ये कारनामा अनूपगढ़ तहसील के रामसिंहपुर इलाके के निवासी अंग्रेज सिंह ने किया है. उन्होंने पहले 6 लाख रुपये खर्च कर 33 साल पुराने ट्रैक्टर की डेंटिंग-पेंटिंग करवाई और फिर उसे एक बड़ी क्रेन की मदद से छत पर रखवाया.

लाइट्स और म्यूजिक सिस्टम लगा ये ट्रैक्टर दूर से ही लोगों को आकर्षित करता है. एक किसान के बेटे अंग्रेज सिंह अमेरिका से लौटे हैं. दरअसल उन्होंने ऐसा कर के एक तरह से किसानों को सम्मान दिया है.

नए घर की तीसरी मंजिल पर रखवाया ट्रैक्टर

इस NRI किसान ने अपना नया घर बनवाया है. उसमें शिफ्ट होने से पहले इन्होंने अपने 33 साल पुराने ट्रैक्टर को क्रेन की मदद से मकान की तीसरी मंजिल पर रखवाया है. इस ट्रैक्टर को आधुनिक करें की मदद से नए मकान की तीसरी मंजिल पर रखवाने में घंटों की मेहनत लगी है. इस ट्रैक्टर की एक खास बात ये भी है कि इसे हर रोज रिमोट की मदद से स्टार्ट किया जा सकेगा, ऐसा इसलिए किया जाएगा कि कहीं ये ट्रैक्टर खराब ना हो जाए.

किसानों के सम्मान के लिए छत पर रखा ट्रैक्टर

किसान के NRI बेटे अंग्रेज सिंह मल्ली 1992 से अमेरिका में रह रहे हैं. उनका मानना है कि एक किसान के लिए ट्रैक्टर बहुत महत्वपूर्ण होता है. यही वजह है कि हर किसान के लिए ट्रैक्टर एक साधारण मशीन नहीं बल्कि पूजनीय औजार होता है. इसी ट्रैक्टर की मदद से किसान अपने खेतों में फसल उगा कर अपनी किस्मत बदलने का इंतजार करता है.

यही वजह है कि अंग्रेज सिंह ने अपने नए मकान की सबसे ऊपरी मंजिल पर ट्रैक्टर रख कर किसानों को और इस पूजनीय औजार को सम्मान देने का प्रयास किया है. वह मानते हैं कि ट्रैक्टर किसानी और किसान की मेहनत का प्रतीक होता है.

[ डि‍सक्‍लेमर: यह न्‍यूज वेबसाइट से म‍िली जानकार‍ियों के आधार पर बनाई गई है. Lok Mantra अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है. ]

Dhara Patel

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Don`t copy text!