आपके पास है 786 नंबर का नोट? तो मिलेंगे 10 लाख रुपये, जानिए कैसे होगी तगड़ी कमाई

गर आप भी नौकरी के साथ एक्स्ट्रा कमाई करना चाहते हैं तो आपके लिए बेहतरीन मौका है. इसके लिए आपको कोई निवेश भी नहीं करना होगा.

आज आपके लिए यहां एक ऐसा आइडिया लाए हैं जिसमें मेहनत किए मिनटों में लखपति बन सकते हैं. दरअसल, कई लोगों को पुराने सिक्कों के कलेक्शन का शौक होता है.

अगर आपको भी ऐसा शौक है या फिर आपके पास भी 786 नंबर वाला कोई 1, 5,10, 20, 50 या 100 या 2000 रुपये का कोई नोट है तो आप घर बैठे रातों रात लखपति बन सकते हैं. आइए जानते हैं इस बंपर कमाई = का तरीका.

कई लोग करते हैं पुराने नोटों का कलेक्शन

जिन लोगों को यूनिक कॉइंस के कलेक्शन का शौक है वे लोग इन सिक्कों को बेच कर लाखों कमा सकते हैं. आजकल ऐसे कई वेबसाइट हैं जिन पर इन सिक्कों की बिक्री होती है. इसे इंडिया मार्ट, ई-बे =, क्विकर जैसे वेनसीटे पर इन सिक्कों को बेच सकते हैं. पर बेच सकते हैं. ई-बे वेबसाइट पुराने नोटों या सिक्कों को बेचने के लिए है.

786 नंबर इतना कीमती क्यों है?

आपके मन में ये सवाल जरूर आ रहा होगा कि इस नंबर के लिए कोई इतना पैसा क्यों देगा? दरअसल, धर्म और डेस्टिनी में भरोसा रखने वाले लोगों की कमी नहीं है. इस्लाम में 786 अंक का बहुत बड़ा महत्व है और इस्लाम धर्म के लोग इसे बहुत पवित्र मानते हैं.

हालांकि, 786 को लेकर अलग-अलग धर्म विशेषज्ञों की अलग-अलग राय है. और यही वजह है कि इसे लगभग सभी जाती-समुदाय के लोग लकी मानते हैं.

जानिए कैसे और कहां बेचें नोट?

  • इसके लिए आप सबसे पहले www.ebay.com पर जाएं.
  • अब होम पेज पर खुद को ‘सेलर’ के रूप में रजिस्टर करें.
  • अब अपने नोट की एक साफ फोटो साइट पर अपलोड करें.
  • Ebay आपके एड को उन लोगों को दिखाएगा, जो पुराने नोट और नोट और कॉइंस खरीदने के शौकीन हैं.
  • अब जो लोग इस एंटिक नोट को खरीदने में रुचि रखते हैं वो आपसे कॉन्टैक्ट करेंगे.
  • इसके बाद आप अपने हिसाब से यहां टोल-मोल कर अपने नोट को बेच सकते हैं.

कितनी हो सकती है कमाई

Ebay की वेबसाइट पर रजिस्टर कर आप 5, 10, 20, 50, 100, 200, 500, 2000 रुपये के 786 नंबर वाले नोट बेच सकते हैं. ये नोट आपको बड़ी रकम दे सकते हैं. अगर अब तक की कीमत पर नजर डालें तो इस तरह के नोट के लिए अब तक 10 लाख रुपये तक की बोली लगाई जा चुकी है.

[ डि‍सक्‍लेमर: यह न्‍यूज वेबसाइट से म‍िली जानकार‍ियों के आधार पर बनाई गई है. Lok Mantra अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है. ]

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Don`t copy text!