पहली बार चार भाषाओं में प्रकाशित हुआ एक शब्दकोश, शिक्षा मंत्री ने किया लोकार्पण

पहली बार एक ऐसी डिक्शनरी का प्रकाशन किया गया है जो चार भाषाओं- अंग्रेजी, बंगाली, हिंदी और उर्दू में है। बंगाली अकादमी ने बुधवार को रवीन्द्र सदन के प्रांगण में कुलपति डॉ. सोमा बंद्योपाध्याय की पुस्तक ”चतुर्भाषिक डिक्शनरी” का प्रकाशन किया। बांग्ला अकादमी के अध्यक्ष और शिक्षा मंत्री प्रोफेसर ब्रात्य बसु ने इसका लोकार्पण किया है।

ब्रात्य बसु ने कहा, “जाने-माने बहुभाषी, ज्योति भूषण चाकी के आकस्मिक निधन से पश्चिम बंगाल बांग्ला अकादमी की यह कोशिश अचानक थम गई थी। प्रोफेसर सोमा बनर्जी की मदद से अकादमी की पहल पर इसे लंबे समय के बाद पूरा किया गया है।

प्रोफेसर बनर्जी, जो बहुभाषी हैं, उन्होंने सभी कमियों को पूरा किया। हमें विश्वास है कि यह कोश बांग्ला लेखन में सहायक बनेगा।”

सोमा बंद्योपाध्याय ने कहा, “शब्दावली संग्रह और संकलन, पांडुलिपि-संपादन, छपाई आदि के कठिन चरणों से गुजरने के बाद यह सुनने में भले ही आसान लग रहा है लेकिन इसे पूरा करने में छह साल लग गए।

हालाँकि, सर्वोत्तम प्रयासों के बावजूद, शब्दकोश पूरी तरह से सटीक नहीं हो सकता है। ऐसी स्थिति में यदि किसी प्रकार की त्रुटि पायी जाती हैं तो उन्हें अगले संस्करण में संशोधित पुस्तक में जोड़ा जायेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Don`t copy text!