सुविधाओं की कमी के बावजूद, न्यायाधीश बन गई ये ऑटो चालक की बेटी – जाने पूरी कहानी

सुविधाओं की कमी के बावजूद, न्यायाधीश बन गई ये ऑटो चालक की बेटी – जाने पूरी कहानी

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ, लड़कियां देश का गौरव हैं, लड़कियां माता-पिता का सम्मान हैं, बेटी भी कोई कम नहीं है, हम अक्सर ऐसे नारे सुनते हैं जो लड़कियों के लिए प्यार जगाते हैं। लेकिन माता-पिता के लिए ये बहुत ही गर्व के पल होते हैं जब परिवार की बेटी परिवार के साथ देश का नाम रोशन करती है। पूनम के पिता एक ऑटो चालक हैं जेन को गर्व नहीं है, उनका कहना है कि ऐसी बेटी हर घर में पैदा होनी चाहिए। उत्तराखंड के सात और उत्तर प्रदेश के एक उम्मीदवार ने न्यायिक सेवा सिविल जज जूनियर डिवीजन 2016 परीक्षा उत्तीर्ण की है, जिनमें से एक पूनम तोदी है।

पूनम अपनी पिछली दो असफलताओं से उत्साहित थी, लेकिन उसके इरादे कमजोर नहीं थे। दोनों बार लिखित परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद भी साक्षात्कार में असफल होने के बाद, पूनम ने परीक्षा की तैयारी में दोहरी डिग्री ली और दिल्ली में एक कोचिंग क्लास में प्रवेश पाने में सफल हुई। जब पूनम को पढ़ाई के लिए महंगी किताबों की जरूरत पड़ी, तो उनके पिता, जो एक ऑटो ड्राइवर हैं, एक दिन में केवल 300 रुपये कमा सकते थे और उन्होंने कभी भी कुछ भी बेकार नहीं जाने दिया।

पूनम के माता-पिता ने उच्च शिक्षा या प्रोत्साहन पाने के लिए पूनम पर कभी जोर नहीं दिया और यही वजह है कि पूनम एक मास्टर के साथ कानून की डिग्री प्राप्त करने में सक्षम थी। अशोक तोदी को गर्व है कि उनके परिवार में कभी बेटे और बेटी में कोई अंतर नहीं रहा। पूनम की शैक्षिक जरूरतों को पूरा करने के लिए उन्होंने अपनी जरूरतों को भी पूरा किया।

अपने माता-पिता और भाई-बहनों का आभार व्यक्त करते हुए पूनम अपने परिवार और अपने प्यार को अपनी सफलता का सबसे बड़ा आधार मानती हैं। डी.ए.वी. कॉलेज देहरादून से वाणिज्य की डिग्री प्राप्त करने के बाद, पूनम इस पेशे से प्रेरित होकर सम्मान के साथ जज बनीं।

पूनम के पिता अशोक तोदी ने भले ही अपने बच्चों को खुशियों से भरा जीवन नहीं दिया हो, लेकिन उन्होंने अपनी शिक्षा पर इतना खर्च किया है कि उन्होंने अपनी जड़ों को इतना मजबूत कर लिया है कि उनकी बेटी, जो 4 साल से जज बनने की तैयारी कर रही है, उसे पूरा करती है उसके जीवन का सपना। हर कमी को दूर किया।

पूनम हर माता-पिता को यह संदेश देना चाहती है कि बेटी के जीवन का लक्ष्य शादी तक सीमित नहीं होना चाहिए और उसे पूरा पढ़ने का मौका दिया जाना चाहिए। शिक्षा एकमात्र हथियार है जो जीवन की कठिनाइयों से लड़ सकता है और वास्तविक ऊंचाइयों तक पहुंच सकता है।

[ डि‍सक्‍लेमर: यह न्‍यूज वेबसाइट से म‍िली जानकार‍ियों के आधार पर बनाई गई है. Lok Mantra अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है. ]

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Don`t copy text!