भारत में लॉन्च हुआ Aura Electric Scooter, स्मार्ट बटन के साथ मिलेंगे ढेरों फीचर्स

भारत में लॉन्च हुआ Aura Electric Scooter, स्मार्ट बटन के साथ मिलेंगे ढेरों फीचर्स

Benling India Energy & Technology ने अपना हाई-स्पीड Aura Electric Scooter तैयार किया है। इस स्कूटर को सरकार द्वारा मान्यता
प्राप्त एजेंसी, जैसे- International Centre for Automotive Technology (ICAT) से अप्रूवल मिला हुआ है। Aura Electric Scooter को हरियाणा के मानेसर में तैयार किया गया है।

Aura Electric Scooter को भारतीय उपभोक्ताओं को ध्यान में रखकर तैयार किया गया है। आइए जानते हैं कि इसकी क्या-क्या विशेषताएं हैं

  • 1200 watt BLDC इलेक्ट्रिक मोटर और डिटेचेबल 72V/40Ah लिथियम-आयन बैटरी से बना यह Electric Scooter एक बार चार्ज करने पर 60 किमी/घंटा की तेज गति के साथ 110-120 किमी की दूरी तय करता है।
  • डिटेचेबल बैटरी को पुराने अंदाज में घरेलू पावर सॉकेट के माध्यम से कहीं भी पूरी तरह से चार्ज किया जा सकता है और इसे सौ प्रतिशत तक चार्ज करने में चार घंटे का समय लगता है।
  • स्कूटर का वजन 95 किलोग्राम है। यह 165 मिमी का ग्राउंड क्लीयरेंस देने में माहिर है। हालांकि, अब तक अन्य जीवाश्म ईंधन (Fossil fuel) से चलने वाले Electric Scooter अधिकतम 130-150 मिमी ग्राउंड क्लीयरेंस देते हैं। लेकिन इस मायने में Aura का स्कूटर बेहतर है।
  • Aura के इलेक्ट्रिक स्कूटर में रिमोट कीलेस सिस्टम (Remote keyless system) भी मौजूद है।
  • यह स्कूटर एंटी-थेफ्ट अलार्म, एक्स्ट्रा रियर- व्हील इंटीग्रेटेड लॉकिंग सिस्टम और यूएसबी मोबाइल चार्जिंग सुविधा से भी लैस है। इस स्कूटर की कीमत लगभग 90 हजार रुपये (एक्स-शोरूम) है।

Aura Electric Scooter के बारे में परितोष डे ने क्या कहा?

बातचीत करते हुए Benling India Energy & Technology के Executive Director परितोष डे ने कहा, “इस स्कूटर की
एक प्रमुख विशेषता ब्रेकडाउन स्मार्ट असिस्टेंस सिस्टम (बीएसएएस) है। आज के दौर में यदि स्कूटर के किसी भी इलेक्ट्रिक कम्पोनेंट में थोड़ी
सी भी गड़बड़ी आती है, तो आपका स्कूटर ब्रेकडाउन नहीं होगा।

हम एक ऐसी सुविधा दे रहे हैं जिसके तहत अगर बैटरी, मोटर या बीएमएस में छोटी-छोटी समस्याएं हैं, जिसके कारण स्कूटर रुक सकता है, तो आप बीएसएएस का बटन दबा सकते हैं, इससे आपका वाहन चलता रहेगा। हालांकि बटन दबाने के बाद स्कूटर की गति 15 से 20 किलोमीटर प्रति घंटा हो जाएगी। इससे आप थोड़ी दूर (10-15 किमी) का फासला तय कर सकते हैं।”

वेबसाइट Bike Dekho का कहना है कि आमतौर पर ब्रेकडाउन की स्थिति में बीएमएस का बटन दबाने से स्कूटर 20 किलोमीटर की दूरी तय करता है। हालांकि इसके बारे में परितोष डे कहते हैं कि दूरी तय करना पूरी तरह से बैटरी की उपलब्धता पर निर्भर है।

इस Electric Scooter में हैं ये कमाल के फीचर्स

Benling India Energy & Technology ने मई 2019 इलेक्ट्रिक स्कूटर का निर्माण कार्य शुरू किया था। पिछले एक साल में फर्म ने Kriti, Falcon और Icon नाम से तीन कम स्पीड वाले मॉडल सफलतापूर्वक लॉन्च किए हैं।

इन तीनों Electric Scooter में सिंगल चार्ज के बाद 70-75 किमी की बैटरी रेंज के साथ, पुश बटन, स्मार्ट की, एंटी-थेफ्ट अलार्म, यूएसबी चार्जिंग पोर्ट जैसी विशेषताएं हैं, जो Aura मॉडल में भी हैं। अंतर बस यह है कि Aura बेहतर बैटरी लाइफ, स्पीड और बीएसएएस से लैस है।

Aura के बारे में परितोष डे ने कहा कि इसमें पार्किंग बटन की भी सुविधा है। इसके बारे मे उन्होंने बताया, “जब हम किसी से बातचीत कर रहें हों और उस समय हम इस इलेक्ट्रिक स्कूटर (EV) को सड़क किनारे थोड़ी देर के लिए रोकते हैं, तब हमें इंजन को बंद करने की जरूरत नहीं
पड़ती। इसके लिए ईवीएस में एक स्मार्ट पार्किंग बटन है, जिसको दबाने से स्कूटर आगे नहीं बढ़ेगा।”

भारत में इलेक्ट्रिक वाहनों का बाजार

अपने देश में इलेक्ट्रिक वाहन के बाजार के बारे में परितोष डे का कहना है कि अभी इस क्षेत्र में काफी काम करने की जरूरत है। उन्होंने कहा, “यदि हम इलेक्ट्रिक वाहनों का इस्तेमाल करने में सबसे आगे चीन से अपनी तुलना करें, तो भारत को अभी इस क्षेत्र में बहुत कुछ करना बाकी है। भारत सरकार भी इलेक्ट्रिक वाहनों के निर्माण में सहायक भूमिका निभा सकती है।

चीन की सरकार ने पिछले दशक के अंत में ICE  वाहनों के खिलाफ सख्त नियमों का एक पूरा सेट तैयार किया था। हालांकि, मैं यहां इसकी मांग नहीं कर रहा हूं। हमें बस इलेक्ट्रिक वाहनों के लिए एक इको-सिस्टम स्थापित करने की आवश्यकता है।”

दरअसल, चीन में जहां लगभग 3 लाख चार्जिंग स्टेशन हैं, वहीं भारत में इसकी संख्या केवल 150 है। इस आंकड़े से आप देश में इलेक्ट्रिक वाहनों की स्थिति का अंदाजा लगा सकते हैं।

भारत सरकार इस योजना पर कर रही विचार

भारत सरकार एक आदेश जारी करने की योजना पर विचार कर रही है, जिसके तहत इलेक्ट्रिक वाहन निर्माताओं से अप्रैल 2023 से केवल इलेक्ट्रिक तिपहिया वाहन और अप्रैल 2025 से 150 CC के इलेक्ट्रिक दोपहिया वाहन बेचने के लिए कहा जाएगा।

इस तरह के कदम से इलेक्ट्रिक वाहनों का बाजार बढ़ने की संभावना है। इसके बारे में Benling India Energy & Technology के परितोष डे कहते हैं, “मुझे लगता है कि 2025 तक देश में इलेक्ट्रिक वाहनों का बाजार 20 गुणा बढ़ जाएगा।”

वेबसाइट ऑटो कार की एक रिपोर्ट के अनुसार वित्तीय वर्ष 2019 में, भारत में 7,59,600 इलेक्ट्रिक वाहनों (ईवी) की बिक्री हुई। इसमें इलेक्ट्रिक टू-व्हीलर (1,26,000), इलेक्ट्रिक थ्री-व्हीलर (6,30,000) और इलेक्ट्रिक पैसेंजर व्हीकल (3,600) शामिल हैं। दिलचस्प बात यह है कि वित्तीय वर्ष 2019 के आंकड़ों में साल-दर-साल एक महत्वपूर्ण उछाल देखने को मिल रहा है।

[ डि‍सक्‍लेमर: यह न्‍यूज वेबसाइट से म‍िली जानकार‍ियों के आधार पर बनाई गई है. Lok Mantra अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है. ]

Dhara Patel

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Don`t copy text!