बोरी भर बचत के सिक्कों से सपनों की स्कूटर ख़रीदने पहुंचा असम का एक शख़्स, वीडियो दिल जीत लेगा

आपने वो कहावत तो सुनी ही होगी, बूंद-बूंद से ही सागर भरता है. असम के एक शख़्स ने इस कहावत को हक़ीक़त कर दिखाया है. नहीं नहीं उसने नया सागर जैसा कुछ नहीं बनाया. असम के इस शख़्स को अपने सपनों का स्कूटर ख़रीदना था. पेशे से दुकानदार इस शख़्स ने महीनों तक गुल्लक में सिक्के जमा किए और बोरी भर बचत के सिक्कों से अपने सपनों की स्कूटर ख़रीदने पहुंचा. यूट्यूबर हिरक. जे. दास ने ये प्यारी सी कहानी शेयर की है.

थोड़ी से पैसों से भी सपने सच हो सकते हैं

बारेपटा स्थित अल्पना सुज़ुकी डिलर्स के पास एक शख़्स स्कूटर ख़रीदने के लिए बोरी भर सिक्के लेकर पहुंचा. दास ने लिखा, ‘आज एक शख़्स ने अपनी बचत से अल्पना सुज़ुकी डिलर्स, बारपेटा से स्कूटी ख़रीदी. इस घटना से एक सीख मिलती है, हो सकता है कि सपने पूरे करने के लिए बहुत सारे पैसे लगे लेकिन कभी-कभी थोड़े से पैसे से भी सपने पूरे हो सकते हैं.’

7-8 महीनों तक की बचत

Time 8 वेबसाइट की मानें तो वायरल वीडियो में जो दुकानदार नज़र आ रहा है उसका नाम, हफ़ीज़ुर अकंद है. हफ़ीज़ूर ने बताया कि वो स्टेशनरी की दुकान चलाते हैं और जब भी उन्हें स्कूटर ख़रीदने का मन होता वो ख़ुद को समझाते थे. दुकानदार ने बताया कि उन्होंने 7-8 महीनों तक बचत की. जब उन्हें लगा कि काफ़ी बचत हो गई है तब वो स्कूटर ख़रीदने पहुंचे. हफ़ीज़ूर ने 1, 2 और 10 रुपये के सिक्कों की बचत की.

वीडियो में सिक्के का बोरा उठाते तीन लोग भी नज़र आए. सिक्कों को प्लास्टिक बास्केट्स में रखा गया. शोरूम के स्टाफ़ ने मिलकर सिक्के गिने. वीडियो में दुकानदार का गर्व से भरा चेहरा भी नज़र आया.

यहां देखिए पूरा वीडियो-

[ डि‍सक्‍लेमर: यह न्‍यूज वेबसाइट से म‍िली जानकार‍ियों के आधार पर बनाई गई है. Lok Mantra अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है. ]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Don`t copy text!