माता-पिता का सपना पूरा किया, अब CAT परीक्षा पास कर IIM से पढ़ना चाहती हैं टॉपर राधिका

इंस्टीट्यूट ऑफ़ चार्टर्ड अकाउंटेट्स ऑफ़ इंडिया ने बीते गुरुवार को फ़ाउंडेशन और फ़ाइनल एग्ज़ाम्स के रिज़ल्ट्स घोषित किए. सूरत की राधिका चौथमल बेरीवाला ने फ़ाइनल एग्ज़ाम्स (न्यू स्कीम) टॉप किए.

800 में 640 अंक हासिल किए

NDTV की एक रिपोर्ट के अनुसार, राधिका ने सीए फ़ाइनल दिसंबर 2021 की परीक्षा में 800 में 640 अंक यानि लगभग 80 प्रतिशत अंक हासिल किए. 32,888 छात्रों ने सीए फ़ाइनल एग्ज़ाम (पुरानी स्कीम) और 95,213 छात्रों ने सीए फ़ाइनल एग्ज़ाम (नई स्कीम) के लिए रेजिस्ट्रेशन किया था.

लॉकडाउन की वजह से हुआ फ़ायदा

राधिका ने सूरत के एस डी जैन कॉलेज से बी. कॉम किया है. The Times of India से बात-चीत के दौरान, राधिका ने बताया कि कोविड पैंडेमिक की वजह से जो लॉकडाउन लगा उसका राधिका को बहुत फ़ायदा हुआ. क्योंकि उन्हें पढ़ाई करने का ज़्यादा वक़्त मिला. राधिका के शब्दों में, ‘ऊपरवाले की कृपा से और मेरे परिवार के सपोर्ट की वजह से मैंने सीए फ़ाइनल्स में पहला रैंक हासिल किया है. मेरे से ज़्यादा ख़ुश मेरे माता-पिता है क्योंकि मुझे टॉप करते हुए देखना उनका सपना था.’

ऐसे की तैयारी

अपनी तैयारी के बारे में बात करते हुए राधिका ने बताया कि उन्होंने शहर के ही सीए रवि छौछरिया से गाइडेंस लिया. लॉकडाउन में घर के अंदर बंद रहने पर मजबूर होने के बाद उन्होंने पढ़ाई को पूरा समय दिया और कई बार रिविज़न किया.

राधिका ने बताया कि वो 8-10 घंटे पढ़ाई करती थीं और पिछले साल के प्रश्न पत्र हल करती थीं. राधिका के शब्दों में, ‘एंट्रेस एग्ज़ाम क्रैक करने के लिए मॉक टेस्ट देना बेहद ज़रूरी है लेकिन मैंने 2 ही बार मॉक टेस्ट दिया. पिछले साल के प्रश्न पत्र हल करके मुझे बहुत मदद मिली’

राधिका ने ये भी बताया कि उन्हें ऑनलाइन क्लासेज़ से भी फ़ायदा हुआ. कोचिंग इंस्टीट्यूट से उन्हें जो स्टडी मटैरियल और नोट्स मिले उससे उनकी तैयारी पक्की होती गई.

IIM से पढ़ना चाहती हैं राधिका

राधिका ने अपने माता-पिता का सपना पूरा कर दिया लेकिन अब वो अपना सपना पूरा करना चाहती हैं. वो कॉमन एप्टीट्यूड टेस्ट या कैट परीक्षा पास करना चाहती हैं. देश के किसी टॉप IIM से फ़ाइनेंस में एमबीए करना चाहती हैं सीए फ़ाइनल की टॉपर राधिका.

माता-पिता और भाई को दिया सफ़लता का श्रेय

राधिका ने अपने माता-पिता और भाई को अपनी सफ़लता का पूरा श्रेय दिया. राधिका ने बताया कि वो और उनके भाई एकसाथ पढ़ाई करते थे और भाई से उन्हें हमेशा मदद मिलती रही.

राधिका अब इन-हैंड एक्सपीरियंस के लिए नौकरी करेंगी और साथ ही कैट की तैयारी भी करेंगी. मेरिट लिस्ट के मुताबिक, नितिन जैन ने दूसरा और निवेदिता एन ने तीसरा रैंक प्राप्त किया है.

[ डि‍सक्‍लेमर: यह न्‍यूज वेबसाइट से म‍िली जानकार‍ियों के आधार पर बनाई गई है. Lok Mantra अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है. ]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Don`t copy text!