जिस वीर के आगे झुका था पाक, उस जांबाज अभिनंदन को वीर चक्र, राष्ट्रपति ने किया सम्मानित

चाहे क्रिकेट का मैदान हो या युद्ध का मैदान हो हमेशा से ही भारत अपने पड़ोसी देश और चिर प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान को जोरदार पटखनी देता रहा है. भारत जब भी मुश्किलों में घिरता है तो पूरा देश एक साथ खड़ा रहता है. अब तक मातृभूमि पर कई लोगों ने अपने प्राणों की आहूति दी है और हमारे जवान कभी भी देश के लिए पीछे नहीं हटे.

हिंदुस्तान की माटी ने कई वीर सैनिकों को जन्म दिया है और ऐसे ही एक वीर योद्धा है भारतीय वासु सेना के विंग कमांडर (अब ग्रुप कैप्टन) अभिनंदन वर्धमान. जिन्हें राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने वीर चक्र से सम्मानित किया है.

भारतीय वासु सेना के विंग कमांडर रह चुके और अब ग्रुप कैप्टन के पद पर कार्यरत अभिनंदन वर्धमान को यह देश सदा याद रखेगा और सदा उनका ऋणी रहेगा. उनके साहस और वीरता के चर्चे हमेशा होते रहेंगे. बता दें कि अभिनंदन वर्धमान पाकिस्तान में घुसकर उसका एक फाइटर प्लेन मार गिराने के बाद चर्चाओं में आए थे.

पाक से लोहा लेते हुए वे पाकिस्तान की सीमा में घुस आए थे और उन्हें पाक ने बंदी बना लिया था. उनके भारत में आने के लिए पूरा देश उनका बेसब्री से इंतज़ार कर रहा था. अपनी वीरता से अभिनंदन ने भरत को गौरवांवित किया था और पाक को उसकी औकात एक बार फिर याद दिलाई दी थी.

अभिनंदन ने 27 फरवरी, 2019 को पाकिस्तान की वायु सेना के F-16 लड़ाकू विमान को हवाई युद्ध में मार गिराया था. उस समय धरती से लेकर गगन तक बस एक ही नाम गूंज रहा था अभिनंदन…अभिनंदन. अभिनंदन ने बालाकोट हवाई हमले के एक दिन बाद 27 फरवरी को भारत और पाकिस्तानी वायु सेना के बीच हवाई युद्ध में पाक के लड़ाकू प्लेन मिग -21 को ध्वस्त कर दिया था.

उनके इस कार्य के लिए उन्हें 3 नवंबर, 2021 को ग्रुप कैप्टन के पद पर पदोन्नत किया गया था. जबकि अब महामहिम ने उन्हें वीर चक्र देकर सम्मानित किया है.

पुलवामा अटैक के बाद बढ़ी थी हलचल

बता दें कि, 2019 में 14 फरवरी को पाकिस्तान के आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने भारतीय जवानों पर हमला किया था. इस आतंकी हमले में भारत के 40 से ज्यादा जवान मां भारती के लिए अपने प्राणों की आहूति देकर विदा हो गए थे.

भारत ने इसका बदला लिया था और पाक एवं आतंकियों को मुंहतोड़ जवाब देते हुए 26 फरवरी को बालाकोट में आतंकी ठिकानों पर एयर स्ट्राइक की थी. दावा किया गया कि भारत ने 40 जवानों के जवाब में 300 से ज्यादा आतंकी मार दिए थे और उनके कई ठिकाने भी ध्वस्त कर दिए थे.

60 घंटे तक पाकिस्तान ने बना रखा था बंदी, भारत के दबाव में छोड़ा

पाक का विमान मार गिराने के दौरान अभिनंदन पकिस्तान की सीमा में घुस गए थे और उन्हें वहां पर बंदी बनाकर 60 घंटे से ज़्यादा समय तक रखा गया था. हालांकि भारत के दबाव के आगे पाकिस्तान को झुकना पड़ा और ससम्मान अभिनंदन पाकिस्तान से स्वदेश लौटे थे.

[ डि‍सक्‍लेमर: यह न्‍यूज वेबसाइट से म‍िली जानकार‍ियों के आधार पर बनाई गई है. Lok Mantra अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है. ]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Don`t copy text!