10 हजार रुपए से ज्यादा में बिक सकता है 50 का ये नोट, जानिए आसान तरीका

अक्सर आपने लोगों को पुराने सिक्के या नोट बेचकर लाखों रुपए कमाते देखा होगा। जब चीजें पुरानी हो जाती हैं, तो वे एंटीक श्रेणी में आ जाती हैं, जिसकी अंतरराष्ट्रीय बाजार में बहुत मांग है। कई लोग इन सिक्कों और नोट्स के कलेक्शन का शौक रखते हैं तो कई लोग इन्हें बेचकर अच्छा खासा पैसा कमा लेते हैं। इन दिनों ई-कॉमर्स वेबसाइट्स पर पुराने सिक्कों और नोट खरीदने-बेचने का चलन तेजी से बढ़ रहा है। इन नोट और सिक्कों के जरिए आपको अच्छे खासे पैसे मिल सकते हैं।

इसी तरह एक 50 रुपए के नोट की कीमत आपको 12 हजार रुपए तक मिल सकती है। इस नोट की खास बात ये है कि इस पर 999-999 और 10,00,000 सीरीज अंकित है। यानी ये दो यूनिक नंबर आपको अच्छी खासी कीमत दिला सकते हैं। एक वेबसाइट पर इस नोट की कीमत 11,999 रुपए लगाई गई है। सोचिए यदि इसी तरह के कुछ नोट आपके पास हों तो रातोंरात लखपति बन सकते हैं। ये नोट 2003 से 2009 तक का हो सकता है।

दरअसल, पिछले कुछ वर्षों में भारत में कई सिक्कों और नोटों का निर्माण बंद हो गया है, जिससे मौजूदा सिक्कों का मूल्य कई गुना बढ़ गया है। इन दुर्लभ सिक्कों के अलावा, भारत में कई लोग महारानी विक्टोरिया के सिक्कों की “खरीदारी” करना भी पसंद करते हैं। कई लोग दिवाली और अक्षय तृतीया के मौके पर सिक्के खरीदना पसंद करते हैं। अब आज हम आपको ऐसे ही एक सिक्के के बारे में बताने जा रहे हैं और यह कैसे सिर्फ एक क्लिक से आपको करोड़पति बना सकता है।

यदि आप इन दुर्लभ सिक्कों में से एक के मालिक हैं और इसे पर बेचने के इच्छुक हैं तो सबसे पहले आपको साइट पर एक ऑनलाइन विक्रेता के रूप में रजिस्ट्रेशन करना होगा। सिक्के की एक तस्वीर पर क्लिक करें और इसे साइट पर अपलोड करें। यदि आप भाग्यशाली हैं, तो खरीदार सीधे आपके संपर्क में आएगा। वहां से आप भुगतान और डिलीवरी की शर्तों के अनुसार अपना सिक्का बेच सकते हैं।

इसी के साथ ऐसे कई लोग आपको मिल जाएंगे जो पूरी शिद्दत से 786 अंक वाले नोट की तलाश कर रहे हैं। ये अंक कई लोग शुभ मानते हैं। अगर आपके पास कोई ऐसा नोट है जिसमें ये अंक है, तो आप उसे ऑनलाइन बेचकर घर बैठे ही लाखों कमा सकते हैं। EBay, कोइनबाजार, इंडियन ओल्ड कॉइन और क्लिक इंडिया जैसी साइट्स इन नोटों की तलाश कर रहे हैं और बाकयदा बोली भी लगाते हैं।

[ डि‍सक्‍लेमर: यह न्‍यूज वेबसाइट से म‍िली जानकार‍ियों के आधार पर बनाई गई है. Lok Mantra अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है. ]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Don`t copy text!