नदी में डूब रहे तीन बच्चों को 13 साल की अनुष्का ने बचाया, चौथी को बचाने के चक्कर में गई खुद की जान !

कुछ भी चुनौतीपूर्ण काम करना किसी के लिए भी एक भादुरी से कम नहीं हैं। हम बहादूर कब कहलाते है, जब एक इंसान निडरता कुछ ऐसा कर जाता है, जो उसके लिए संभव नही है, भले ही वह इंसान कितना भी डरा हुआ हों। बहादुर लोगो की कोई उम्र नहीं होती, किसी भी उम्र के इंसान इसका उदहारण बन सकते है, वे एक बच्चे, बूढ़े, जवान कोई भी हो सकता हैं। हम आज आपको बताने जा रहे है, एक 13 वर्षिए बहादुर बच्ची के बारे में, जिसने अपने जान पर खेल कर कुछ ऐसा कर दिखाई, और बहादुरी का उदहारण बन गई।

जानिए पूरी घटना के बारे में

हम बात कर रहे है, राजस्थान में फुलरिया विसर्जन के दौरान पार्वती नदी में हुए हादसे के बारे में। इस हादसे में 4 बच्चे नदी में डूब रहे थे, उसी समय अनुष्का नाम की एक 13 साल की बच्ची उन बच्चों को बचाने के लिए छलांग लगा दी। इसमें अनुष्का ने तीन बच्चो को बाहर तो निकाल लाई पर चौथे बच्चे को बचाने के चक्कर मे अपनी ही जन खोनी पड़ी।

पानी में डूब रहे बच्चों के बारे में

ये 4 बच्चे राजस्थान के धौलपुर जिले के थे, जो वहा विशर्जन के मौके पर पहुंचे थे।

जिनमे 13 वर्षीय अनुष्का सबसे बड़ी थी, और जिसके साथ 7 साल की छवि, 12 साल की खुशबू, 10 साल की पंकज, और 10 साल की गोविंदा थी। इस स्थान पर हर साल रक्षाबंधन के दूसरे दिन कार्यकर्म का आयोजन होता हैं।

बच्चियों के घर में सबका बुरा हाल

इस घटना के कारण पूरे जिले में सन्नाटा पसर गया हैं। खासकर उन दो बच्चियों के घर में सबका रो रो कर बुरा हाल हो गया हैं। जब बच्चियों का शव पोस्टमार्टम करने के बाद घर आया था, पुरे परिवार में मातम जैसा माहौल पसर गया था ।

[ डि‍सक्‍लेमर: यह न्‍यूज वेबसाइट से म‍िली जानकार‍ियों के आधार पर बनाई गई है. Lok Mantra अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है. ]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Don`t copy text!